गुजरातः क्या आप जानते हैं आम की कीमत किस तरह तय किया जाता है?

तलाला के मार्केटिंग यार्ड में एाम बेचता व्यापारी

जलवायु परिवर्तन के कारण घट रहा है आम का उत्पादन

गर्मियां आते ही आम के प्रेमियों को बहुत मज़ा आता है क्योंकि लोग गर्मियों में आम का मज़ा लेते हैं। गर्मियों के मौसम की शुरुआत के साथ, तलाला गिर का प्रसिद्ध आम अब बाजार में आने लगा है। तलाला के मार्केटिंग यार्ड में धीरे-धीरे कैरी (आम) की आय बढ़ने लगी है। तलाला के आसपास के किसान अपने आम बेचने के लिए मार्केटिंग यार्ड में आते हैं। किसानों के लिए लाए गए आम को मार्केटिंग यार्ड के व्यापारियों द्वारा खरीदा जाता है और फिर इन व्यापारियों के माध्यम से आम बाजार में बेचा जाता है। फिर लोग आम खरीदते हैं।
आम की पैदावार कम होने से आम के दाम भी इस साल बढ़ गए हैं लेकिन क्या आप जानते हैं कि मार्केटिंग यार्ड में आम की कीमतें कैसे तय होती हैं। तलाला मार्केटिंग यार्ड के एक व्यापारी कालुभाई ने कहा कि इस बार तलाला मार्केटिंग यार्ड में लगभग 7,000 जितने कैरी (आम) के बॉक्स की आय तलाला मार्केटिंग यार्ड में होगा।  पिछली बार आम की कीमत 250 रुपये से 700 रुपये तक थी लेकिन इस साल कीमत 300 रुपये से 750 रुपये तक होगी।
व्यापारी कालूभाई के अनुसार, आम की कीमत आम के उत्पादन से तय होती है। तो कभी-कभी ऐसा होता है कि आम का फल बड़ा होता है लेकिन वह अधिक कच्चा होता है तो उसका पैसा कम आता है लेकिन कभी-कभी ऐसा होता है कि यदि फल छोटा है लेकिन यह अच्छी तरह पकता है तो इसका पैसा अच्छा आता है।
हम किसानों से आम खरीदने के बाद आम का नंबर देते हैं। फिर हम आम को उस व्यापारी को भेजते हैं जो आम की संख्या खरीदता है। एक नंबर की आम इसके कहते हैं जो बाक्स में  30 से 35 नग आता है। अगर किसी डिब्बे में 40 से 50 आम आते हैं तो उसे नंबर 2 कहा जाता है और अगर 50 से 60 आम एक बॉक्स में आते हैं तो इस आम को नंबर 3 आम कहा जाता है।
वैसे तो आम की कीमत उत्पादन के आधार पर तय की जाती है लेकिन उत्पाद के आधार पर कीमत तय होने के बाद, कीमत भी आम के आकार और गुणवत्ता के आधार पर निर्धारित की जाती है। व्यापारी ने यह भी कहा कि नंबर एक आम की कीमत 600 रुपये से 800 रुपये तक होता है। कैरी नंबर 2 के 1 बॉक्स की कीमत 400 से लेकर 600 रुपये तक होती है और 3 नंबर के आम की कीमत 300 रुपये से 350 रुपये तक है।
इस साल गिर में आम के उत्पादन में गिरावट के पीछे दो कारण हैं। पहला कारण ओस है। किसानों का मानना ​​है कि ओस के कारण आम बड़ा होने  से पहले ही आम गिर जाते हैं और दूसरा कारण यह है कि  आम में रोग आने के कारण आम का उत्पादन भी कम हो गया है। अगर हम पिछले चार या पांच साल के आंकड़ों की बात करें तो किसानों के मुताबिक इस साल उत्पादन 60 फीसदी तक कम हुआ है। आम को जब परागमन के समय ठंडी का वातावरण चाहिए तब ग्लोबल वार्मिंग के कारण गर्मी का वातावरण मिलता है और जब गर्मी का वातावरण चाहिए तब ठंडी का वातावरण मिलता है। जिससे जलवायु परिवर्तन के कारण आम का उत्पादन भी घट रहा है।

इन टॉपिक्स पर और पढ़ें:


ये भी पढ़ें