कुन्नूर हेलिकॉप्टर दुर्घटना में जीवित बचे ग्रुप केप्टन वरुण सिंह का हुआ निधन

ग्रुप केप्टन वरुण सिंह

8 दिसंबर को हुई दुर्घटना में एक मात्र बचे थे जीवित, ग्रुप केप्टन अभिनंदन के साथ भी किया था काम

तमिलनाडु के कुन्नूर में हेलीकॉप्टर दुर्घटना में घायल हुए ग्रुप कैप्टन वरुण सिंह की मौत हो गई है। 8 दिसंबर को तमिलनाडु के कुन्नूर में सीडीएस बिपिन रावत का हेलीकॉप्टर क्रैश हो गया था। हादसे में बिपिन रावत और उनकी पत्नी समेत 13 लोगों की मौत हो गई थी तथा एक मात्र वरुण सिंह ही जीवित बचे थे। हालांकि बुधवार को वह भी मौत के सामने अपनी जंग हार गए।
IAF ने ट्वीट किया कि भारतीय वायु सेना को यह जानकर "गहरा दुख" हुआ कि समूह के कप्तान की आज उपचार के दौरान मृत्यु हो गई। वह 8 दिसंबर, 2021 को हुई दुर्घटना में जीवित बचे एकमात्र व्यक्ति थे। वायु सेना के अधिकारी उनके निधन पर शोक व्यक्त करते हैं और इस दुखद स्थिति में उनके और उनके परिवार के साथ खड़े हैं।
कैप्टन वरुण सिंह गांव कन्होली, खोरमा, द्वारिया, यूपी का रहने वाला था। उनका बेंगलुरु के आर्मी अस्पताल में इलाज चल रहा था। वरुण ग्रुप कैप्टन अभिनंदन वर्धमान के बैचमेट थे। अभिनंदन वर्धमान ने 27 फरवरी, 2019 को भारतीय सीमा में प्रवेश करने वाले एक पाकिस्तानी विमान को खदेड़ दिया। कैप्टन वरुण सिंह का जन्म दिल्ली में हुआ था। वह 42 साल के थे। उनके पिता कृष्ण प्रताप सिंह सेना में कर्नल के पद से सेवानिवृत्त हुए। वरुण के छोटे भाई तनुज सिंह मुंबई में नेवी में हैं। उनकी पत्नी गीतांजलि का एक बेटा रिद्ध रमन और एक बेटी आराध्या है।

इन टॉपिक्स पर और पढ़ें:


ये भी पढ़ें