विदेशी स्कीट कोच ने ओलंपिक से पहले भारतीय निशानेबाजों का साथ छोड़ा

(Photo : IANS)

इटली के स्कीट कोच एन्नियो फाल्को इस साल के ओलंपिक खेलों की तैयारी कर रहे भारतीय निशानेबाजों को प्रशिक्षित नहीं करेंगे, क्योंकि वह शनिवार को कतर के राष्ट्रीय टीम में शामिल हो गए हैं।

नई दिल्ली, 27 फरवरी (आईएएनएस)| इटली के स्कीट कोच एन्नियो फाल्को इस साल के ओलंपिक खेलों की तैयारी कर रहे भारतीय निशानेबाजों को प्रशिक्षित नहीं करेंगे, क्योंकि वह शनिवार को कतर के राष्ट्रीय टीम में शामिल हो गए हैं। नेशनल राइफल एसोसिएशन ऑफ इंडिया (एनआरएआई) के एक अधिकारी ने शनिवार को यह जानकारी दी।

पूर्व ओलंपिक चैंपियन, 52 वर्षीय फाल्को ने अगस्त 2020 में ही इस्तीफा दे दिया था क्योंकि राष्ट्रीय टीम चयन में शामिल किए जाने के उनके अनुरोध को अस्वीकार कर दिया गया था। एनआरएआई ने इस आधार पर उनके अनुरोध को अस्वीकार कर दिया था कि रैंकिंग अंक के आधार पर निशानेबाजों का चयन करना उसकी नीति के खिलाफ है।


[(Photo : IANS)]


इस बारे में जानकारी रखने वाले एक अधिकारी ने आईएएनएस से कहा, चूंकि वह एक अच्छा कोच थे लिहाजा एनआरएआई ने उसे अपने फैसले पर पुनर्विचार करने के लिए राजी किया। हम चाहते थे कि वह जुलाई-अगस्त में ओलंपिक तक बने रहें। अब, वह कतर टीम में शामिल हो गए हैं, इसलिए उसके दोबारा भारतीय टीम में शामिल होने का कोई चांस नहीं है। टोक्यो में 23 जुलाई से 8 अगस्त तक ओलंपिक खेलों का आयोजन होना है।

एनआरएआई उम्मीद कर रहा था कि फाल्को फरवरी में राष्ट्रीय टीम में शामिल होंगे। उम्मीद थी कि वह मिस्र के काहिरा में चल रहे शॉटगन विश्व कप से पहले टीम से जुड़ जाएंगे लेकिन ऐसा नहीं हुआ।

पुनर्निर्धारित टोक्यो ओलंपिक को ध्यान में रखते हुए, फाल्को का अनुबंध, जो अगस्त 2020 में समाप्त हो गया था, को सितंबर 2021 तक बढ़ा दिया गया था। उनके अनुबंध के अनुसार इतालवी शहर कैपुआ से 1996 के इस ओलंपिक चैंपियन को 600 यूरो (लगभग 55 हजार रुपये) और वर्ष में 160 दिनों के लिए दिन करीब 84 लाख रुपये मिल रहे थे।

इन टॉपिक्स पर और पढ़ें:


ये भी पढ़ें