इंजीनियर डे विशेष : गुजरात के कुछ स्थान जो है इंजीनियरींग का अद्भुत नमूना

दुनिया में कुछ भी बनाना हो तो इंजीनियर को याद करना ही पड़ता है। किसी भी चीज का निर्माण करना हो या किसी चीज को फिर से बनाना हो उसके लिए हमें इंजीनियर को याद करना ही पड़ता है। ऐसे में आज हम गुजरात के कुछ ऐसे शिल्प स्थापत्यों के बारे में बात करेंगे, जो की इंजीनियरींग का अद्भुत उदाहरण है। गुजरात में कई ऐसी इमारतें और जगहें हैं, जिनका निर्माण किसी को भी सोचने पर मजबूर कर देता है। सालों पुरानी इन इमारतें आज भी उतनी ही खूबसूरत और सौम्य हैं। आज ही विश्वसरैया का 158वां जन्मदिन है, जिसे देश में इंजीनियर्स डे के रूप में मनाया जाता है। 
अदालज की वाव
अदालज की वाव
अहमदाबाद हाईवे पर स्थित अदालज की वाव को रुदाबाई की वाव के नाम से भी जाना जाता है। वीरसंघ वाघेला ने अपनी रानी रुडीबाई के लिए वाव बनवाया था। यह चूना पत्थर से बनी हिंदू-मुस्लिम वास्तुकला का उत्कृष्ट उदाहरण है। पांच सौ साल पहले निर्मित, वाव अभी भी भूकंप और बाढ़ जैसी प्राकृतिक आपदाओं के बाद भी मजबूती से खड़ी है। मूर्तिकला और स्थापत्य की दृष्टि से इसका बहुत महत्व है। कई परिवारों में नव दंपत्ति को प्रजनन क्षमता के आशीर्वाद के लिए वाव में लाया जाता है। 
सिदी सैय्यद की जाली
सिदी सैय्यद की जाली 
सिदी सैय्यद की जाली मस्जिद से ज्यादा प्रसिद्ध है। सिदी सैय्यद की जाली सिदी सैय्यद की मस्जिद की दीवारों में से एक प्रसिद्ध जाली है। इस जाली की ख़ासियत यह है कि इतनी बड़ी जाली एक ही पत्थर से बनी है। इस जाली को नक्काशी का अनूठा नमूना माना जाता है। अहमदाबाद की प्रसिद्ध इमारतों में से एक होने के अलावा, सिदी सैयद की जाली का उपयोग अहमदाबाद के प्रतीक के रूप में भी किया जाता है। पहली नज़र में ऐसा लगता है कि पत्थरों के बीच ताड़ के पेड़ की शाखा व्यवस्थित है, लेकिन यह बलुआ पत्थर से बनी एक कलात्मक जाली है। 
राणकी वाव
राणकी वाव
गुजरात में कई ऐतिहासिक स्मारक हैं, जो गुजरात के गौरव को बढ़ाते हैं। उन्हीं में से एक है पाटन जिले में स्थित विश्व प्रसिद्ध राणकी वाव या रानी की वाव। रानी वाव कला और स्थापत्य का उत्कृष्ट उदाहरण है। यह वाव गुजरात के गौरवशाली इतिहास का एक सिंहावलोकन देता है। इस वाव को 1063 में बनाया गया था। इस वाव की दीवारों पर वामन अवतार, भगवान राम की छबि देखी गई है। 10वीं शताब्दी में बना यह वाव सोलंकी वंश की भव्यता को दर्शाता है। यह 64 मीटर लंबा, 20 मीटर चौड़ा और 27 मीटर गहरा है। इस वाव का निर्माण रानी उदयमती ने करवाया था। महिषासुरमर्दिनी, कल्कि अवतार और भगवान विष्णु के विभिन्न अवतारों के चित्र वाव पर अंकित हैं। 
झूलती मीनार
झूलती मीनार
अहमदाबाद में सिदी बशीर की मस्जिद में झूलती हुई मीनार का निर्माण किया गया था, जिसके बारे में माना जाता है कि इसे सुल्तान अहमद शाह के दास सिदी बशीर ने बनवाया था। एक अन्य मत के अनुसार, इसका निर्माण सुल्तान मुहम्मद बेगड़ा के शासनकाल के दौरान मलिक सारंग नाम के एक रईस ने करवाया था। इस मीनार मस्जिद का निर्माण 15वीं शताब्दी में पूरा हुआ था। एक मीनार पर चढ़ने और उसे धीरे से हिलाने के बाद दूसरी मीनार कुछ पलों के बाद अपने आप हिल जाता है और दो टावरों के बीच की जगह में इस कंपन का असर नहीं दिखता है। इस कंपन का सही कारण अभी पता नहीं चल पाया है। मोनियर एम. विलियम्स नाम के एक अंग्रेजी संस्कृत विद्वान को पहली बार 19वीं शताब्दी में मीनारों की इस विशेषता के बारे में पता चला था।  
सूर्य मंदिर
सूर्य मंदिर
यदि पृथ्वी पर कोई जीवित देवता है जिसकी पूजा की जाती है, तो वह सूर्य नारायण है। सूर्य देव के मुख्य मंदिर भारत में केवल दो स्थानों पर स्थित हैं। एक ओडिशा के कोर्नक में और दूसरा गुजरात के मेहसाणा जिले के मोढेरा में। सोलंकी युग में बना यह मंदिर हस्तशिल्प का उत्कृष्ट उदाहरण है।

इन टॉपिक्स पर और पढ़ें:


ये भी पढ़ें