क्या आप जानते हैं; खस्ताहाल सड़क में यूज़ हुए मटीरियल के नमूने RTI फाइल करके प्राप्त कर सकते हैं

आरटीआई अधिनियम का उपयोग करके पाया जा सकता है कार्य, दस्तावेजों, अभिलेखों के निरीक्षण

सड़कें और सड़कों के गड्ढे, ये बहुत ही आम बात है और हर जगह देखी जा सकती है। आप भी इन गड्ढों से परेशान होंगे और सरकार को खूब कोसा होगा। लेकिन क्या आपको पता है कि यदि आप अपने सोसाइटी में बनी नई सड़क पर आने वाली दरार से परेशान है और यदि आप कार्य से संतुष्ट नहीं हैं, तो क्या आप रोडवर्क में प्रयुक्त सामग्री के नमूनों की जाँच करा सकते हैं और सड़क में यूज़ हुए मटीरियल के नमूने RTI फाइल करके प्राप्त कर सकते हैं? आपको बता दें कि अपने नवीनतम आदेश में राज्य सूचना आयुक्त सुभाष सोनी ने अहमदाबाद नगर निगम (एएमसी) को आदेश दिया कि वह 15 दिनों के भीतर आरटीआई अधिनियम के तहत चल रहे सड़क निर्माण परियोजना में इस्तेमाल की जाने वाली सामग्रियों के ताजा बैच से नागरिक नमूने प्रदान करें।
इसके अलावा आयोग ने भी एक कदम आगे बढ़कर एएमसी को आरटीआई आवेदक को सड़क बनाने में उपयोग की गई सामग्री के परीक्षण के प्रमाणपत्र की प्रति उपलब्ध कराने को कहा। आपको बता दें कि अहमदाबाद के कालूपुर इलाके में रहने वाले एक आवेदक पंकज भट्ट ने अपने अधिकारों का प्रयोग करते हुए सिविक वर्क्स की टेस्ट रिपोर्ट की कॉपी या ऑन-साइट सिविक वर्क्स का निरीक्षण की मांग की है को आरटीआई अधिनियम के दायरे में आता है। भट्ट ने आरटीआई अधिनियम के पहले खंड "सूचना के अधिकार" को कार्य, दस्तावेजों, अभिलेखों के निरीक्षण के अधिकार का लाभ उठाते हुए सरकार से सड़क में उपयोग की गई चीजों की जानकारी मांगी है। 
आपको बता दें कि भट्ट ने पिछले साल 7 मार्च को एएमसी के केंद्रीय क्षेत्र कार्यालय से संपर्क किया था और माप पुस्तिका की एक प्रति, ठेकेदार को किए गए भुगतान का विवरण, प्रत्येक चरण में इंजीनियर द्वारा की गई टिप्पणी के साथ जोन में सड़क के कामों का निरीक्षण करने की मांग की थी।

इन टॉपिक्स पर और पढ़ें:


ये भी पढ़ें