16 दिसंबर- विजय दिवस: जब पाकिस्तान के 93 हजार सैनिकों ने भारत के सामने किया था आत्मसमर्पण

1971 में आज के दिन भारत ने पाकिस्तान को हराया था, युद्ध के बाद पूर्व पाकिस्तान बना एक स्वतंत्र देश बांग्लादेश

आज भारतीय इतिहास का एक बेहद खास दिन है। आज भारतीय सेना के लिए आज का दिन ऐतिहासिक है। आज 16 दिसंबर को देशभर में विजय दिवस के रूप में मनाया जाता है। भारत ने आज ही के दिन 1971 में पाकिस्तान के खिलाफ युद्ध जीता था और इसके बाद बांग्लादेश की स्थापना हुई थी। आज बांग्लादेश के गठन के अवसर पर 16 दिसंबर को स्वर्ण विजय मशाल जलाई जाती है। 1971 के युद्ध में भारतीय सैनिकों ने भारी बलिदान दिया। इस युद्ध में लगभग 3900 भारतीय सैनिक मारे गए और 9851 घायल हुए थे। हालांकि यह युद्ध समाप्त होते- होते पाकिस्तान का स्वाभिमान बिखर कर चकनाचूर हो गया था।
(Photo Credit :BBC)
इस युद्ध के अंत में 93,000 पाकिस्तानी सैनिकों ने आत्मसमर्पण कर दिया। दुनिया की किसी भी लड़ाई में एक पक्ष के सैनिकों द्वारा किया गया ये सबसे बड़ा आत्मसमर्पण था। इस युद्ध में पूर्वी पाकिस्तान पाकिस्तान से स्वतंत्र हो कर बांग्लादेश के नाम से स्वतंत्र देश के रूप में अस्तित्व में आया।
पूर्वी पाकिस्तान में पाकिस्तानी सेना के कमांडर लेफ्टिनेंट जनरल एएके नियाज़ी ने पूर्वी भारत की सेना के कमांडर लेफ्टिनेंट जनरल जगजीत सिंह अरोड़ा के सामने आत्मसमर्पण कर दिया। 16 दिसंबर की शाम को जनरल नियाज़ी ने आत्मसमर्पण के कागजात पर हस्ताक्षर किए। इसी के साथ ये युद्ध भारत ने जीत लिया। तब से भारत में हर साल 16 दिसंबर को विजय दिवस मनाया जाता है।

इन टॉपिक्स पर और पढ़ें:


ये भी पढ़ें