शेयर बाजार पर कोरोना का साया, बिकवाली के दबाव से सेंसेक्स 871 अंक टूटा

(Photo: IANS)

बैंकिंग और वित्तीय सेक्टरों के शेयरों में भारी गिरावट दर्ज की गई जबकि आईटी और धातु सेक्टर में लिवाली बनी रही

मुंबई, 5 अप्रैल (आईएएनएस)| देश में कोरोना का प्रकोप गहराने और महाराष्ट्र में लॉकडाउन जैसे प्रतिबंधात्मक उपायों को अमल में लाने के कारण घरेलू शेयर बाजार में सप्ताह के पहले सत्र में सोमवार को बिकवाली का भारी दबाव दबाव रहा। बिकवाली हॉवी होने के कारण दलाल स्ट्रीट पर कोहराम मचा रहा। सेंसेक्स बीते सत्र से 870.51 अंकों यानी 1.74 फीसदी की गिरावट के साथ 49,159.32 पर बंद हुआ जबकि निफ्टी 229.55 अंकों यानी 1.54 फीसदी की गिरावट के साथ 14,637.80 पर ठहरा। बैंकिंग और वित्तीय सेक्टरों के शेयरों में भारी गिरावट दर्ज की गई जबकि आईटी और धातु सेक्टर में लिवाली बनी रही।
बंबई स्टॉक एक्सचेंज (बीएसई) के 30 शेयरों पर आधारित संवेदी सूचकांक सेंसेक्स बीते सत्र से महज 8.92 अंकों की कमजोरी के साथ 50,020.91 पर खुला और दिनभर के कारोबार के दौरान 48,580.80 तक लुढ़का जबकि सेंसेक्स का ऊपरी स्तर 50,028.67 रहा।
नेशनल स्टॉक एक्सचेंज (एनएसई) के 50 शेयरों पर आधारित संवेदी सूचकांक निफ्टी बीते सत्र से 29.65 अंक फिसलकर 14,837.70 पर खुला और दिनभर के कारोबार के दौरान 14,459.50 तक लुढ़का जबकि इस निफ्टी का ऊपरी स्तर 14,849.85 रहा।
बीएसई मिडकैप सूचकांक बीते सत्र से 232.54 अंकों यानी 1.13 फीसदी की गिरावट साथ 20,283.86 पर बंद हुआ, जबकि स्मॉलकैप सूचकांक पिछले सत्र से 226.70 अंकों यानी 1.08 फीसदी की गिरावट के साथ 20,844.99 पर ठहरा।
(IANS Infographics)
सेंसेक्स के 30 शेयरों में से सिर्फ पांच शेयर बढ़त के साथ बंद हुए, जबकि 25 शेयरों में गिरावट दर्ज की गई। सेंसेक्स के सबसे ज्यादा तेजी वाले पांच शेयरों में एचसीएलटेक (3.08 फीसदी), टीसीएस (2.32 फीसदी), इन्फोसिस (1.79 फीसदी), भारती एयरटेल (1.40 फीसदी) और टेक महिंद्रा (0.53 फीसदी) शामिल रहे। सेंसेक्स के सबसे ज्यादा गिरावट वाले पांच शेयरों में बजाज फाइनेंस (5.81 फीसदी), इंडसइंड बैंक (5.64 फीसदी), एसबीआईएन (4.56 फीसदी), एमएंडएम (4.17 फीसदी) और एक्सिस बैंक (3.93 फीसदी) शामिल रहे। बीएसई के सभी 19 सेक्टरों में पांच सेक्टरों के सूचकांक बढ़त के साथ बंद हुए, जबकि 14 सेक्टरों में गिरावट रही। सबसे ज्यादा गिरावट वाले पांच सेक्टरों में रियल्टी (3.62 फीसदी), बैंकिंग इंडेक्स (3.47 फीसदी), वित्त (3.26 फीसदी), ऑटो (2.63 फीसदी)और कंज्यूमर डिस्क्रेशनरी गुड्स एंड सर्विसेस (2.30 फीसदी) शामिल रहे। वहीं, बढ़त पांच सेक्टरों में आईटी (1.96 फीसदी), टेक (1.67 फीसदी), धातु (0.96 फीसदी), टेलीकॉम(0.50 फीसदी) और हेल्थकेयर (0.41 फीसदी) शामिल रहे।
देश के विनिर्माण क्षेत्र की गतिविधियों की तस्वीर पेश करने वाले आंकड़े हालांकि खराब नहीं है कि लेकिन बीते महीने के मुकाबले कमजोर जरूर हैं। आईएचएस मार्किट मन्युफैक्च रिंग परचेजिंग मैनेजर्स इंडेक्स यानी पीएमआई मार्च महीने में 55.4 दर्ज किया गया जोकि फरवरी में 57.5 पर था। मैन्युफैक्च रिंग पीएमआई के आंकड़े सात महीने के निचले स्तर पर है। हालांकि 50 से ऊपर पीएमआई के आंकड़े अच्छे माने जाते हैं जबकि 50 से नीचे का स्तर अर्थव्यवस्था में सुस्ती का संकेत होता है।

इन टॉपिक्स पर और पढ़ें:


ये भी पढ़ें