चीन : ‘जीरो कोविड पालिसी’ के चक्कर में अपनी ही लोगों को मेटल बॉक्स में कैद कर रही सरकार, लाखों लोग नजरबंद

(Photo Credit : sandesh.com)

गर्भवती महिलाओं, बच्चों और बुजुर्गों को रखा जा रहा, गर्भवती को अस्पताल जाने की भी अनुमति नहीं

चीन अपनी हरकतों के कारण हमेशा चर्चा में रहता है। चीन आये दिन कुछ न कुछ ऐसा कर जाता है जिसके कारण दुनिया भर में उसकी थू-थू होने लगती है। अब एक बार फिर अपनी 'जीरो कोविड पॉलिसी' के तहत चीन अपने ही नागरिकों के साथ घिनौना खेल खेल रहा है। सोशल मीडिया पर शेयर किए गए कुछ वीडियो के मुताबिक, चीनी सरकार लाखों लोगों को क्वारंटाइन कैंप में रखा  जबकि कई संक्रमित मरीजों को मेटल बॉक्स में कैद कर रख रही है। अगले महीने चीन को शीतकालीन ओलंपिक की मेजबानी करनी है इसकी के तैयारी के मद्देनजर ऐसे कड़ा नियमों का अमल हो रहा है।
सोशल मीडिया पर वायरल हुए चीन के वीडियो से पता चलता है कि कड़े प्रतिबंधों के नाम पर नागरिकों के साथ किस तरह का व्यवहार किया जा रहा है। यह किसी बुरे सपने से कम नहीं है। गर्भवती महिलाओं, बच्चों और बुजुर्गों को भी इस धातु के डिब्बे में रखा जा रहा है। कोविड पॉजिटिव रिपोर्ट आने के बाद लोगों को 2 हफ्ते तक इसी डिब्बे में रखा जाता है। इसमें एक लकड़ी का बिस्तर और शौचालय है।
<>
जानकारी के अनुसार यदि एक क्षेत्र में एक भी व्यक्ति संक्रमित है तो पूरे क्षेत्र के लोगों को क्वारंटीन किया जा रहा है। उन्हें बस में लादकर कैंप ले जाया जाता है। बताया जाता है कि एक संक्रमित व्यक्ति के दर्ज होने के बाद कई इलाकों में लोगों को आधी रात को घर से निकलकर क्वारंटाइन कैंप में जाने को कहा जाता है। संक्रमित लोगों और उनके संपर्क में आने वालों की पहचान करने को लेकर भी चीन की सख्त नीति है। इसके तहत सभी के लिए अपने फोन में 'ट्रैक एंड ट्रेस' एप का होना अनिवार्य है। अगर कोई व्यक्ति संक्रमित होता है तो उसके संपर्क में आने वाले सभी लोगों को ट्रेस कर क्वारंटाइन कैंप में भेज दिया जाता है।
चीन के तियानजिन शहर में कल ओमिक्रॉन के मामले का खुलासा हुआ है। लॉकडाउन से लोग डरे हुए हैं और डर के मारे खाने-पीने की चीजें खरीद रहे हैं। चीन में करीब दो करोड़ लोगों को नजरबंद किया गया है। उन्हें खाने-पीने की चीजें खरीदने के लिए भी बाहर जाने की अनुमति नहीं है। मीडिया रिपोर्ट्स के मुताबिक हाल ही में एक गर्भवती महिला को अस्पताल नहीं जाने दिया गया और उसका गर्भपात हो गया। अब चीन में कोविड-19 के कड़े नियमों को लेकर विवाद छिड़ गया है।
गौरतलब है कि साल 2019 में चीन से ही पूरी दुनिया में कोरोना वायरस फैला था। इसके बाद चीन ने तब कठोर तालाबंदी कर दी थी। उस वक्त भी चीन के सख्त कोविड नियमों के वीडियो पूरी दुनिया में चर्चा का विषय बने थे।

इन टॉपिक्स पर और पढ़ें:


ये भी पढ़ें