सीबीएसई ने लिया बड़ा फैसला, कोरोना के कारण माता-पिता गँवाने वाले छात्रों को एग्जाम फीस से मुक्ति

(Photo : IANS)

परीक्षा नियंत्रक द्वारा दी गई जानकारी, 30 सितंबर तक भरनी है एग्जाम फीस

सेंट्रल बोर्ड ऑफ सेकेंडरी एज्यूकेशन (CBSE) द्वारा एक बड़ा फैसला लिया गया है। देश भर में चल रही कोरोना महामारी के कारण कई लोगों की जान भी चली गई है। ऐसे में CBSE द्वारा कोरोना महामारी के कारण जिन छात्रों के माता-पिता अब जीवित नहीं है, उन सभी छात्रों को एग्जाम फीस में से मुक्ति देने के निर्णय लिया गया है। 
CBSE द्वारा एक नोटिफिकेशन जारी कर कहा गया कि कोविड-19 महामारी ने सभी के ऊपर काफी प्रभाव डाला है। ऐसे में छात्रों के भविष्य में कोई भी रुकावट ना आए इसलिए बोर्ड द्वारा यह फैसला लिया गया है। बता दे कि फिलहाल 10वीं और 12वीं कक्षा के सभी छात्रों को 30 सितंबर तक एग्जाम फीस जमा करने कहा गया है। 30 सितंबर तक भी यदि कोई फीस नहीं भर पाएगा तो 9 अक्टूबर तक लेट फीस के साथ छात्र एग्जाम फीस जमा कर सकते है। उल्लेखनीय है कि बोर्ड में आवेदन करने के पहले छात्रों को एग्जाम फीस जमा करना होता है। जिसमें पाँच विषयों के लिए 1200 से 1500 रुपए तक का शुल्क देना होता है। 
उल्लेखनीय है की इस साल CBSE द्वारा सिलेबस को दो भागों में विभाजित कर दिया गया है। छात्रों की परीक्षा भी दो टर्म में विभाजित की जाएगी। पहली टर्म की परीक्षा में एमसीक्यू आधारित प्रश्न दिये जाएँगे। वही टर्म-II में लघु और दीर्घ दोनों प्रकार के उत्तर पूछे जाएँगे।

इन टॉपिक्स पर और पढ़ें:


ये भी पढ़ें