बायड: पिछले 17 साल से कपिराज को खिलाते थे बिस्कुट, निधन के समय कपिराज आ पहुंचे उसके घर

(Photo Credit : dainikbhaskar.com)

सात किलोमीटर की दूरी तय करने कपिराज आया अंतिम दर्शन के लिए

राज्य में कोरोना की स्थिति बहुत गंभीर होती जा रही है। दिन-ब-दिन कोरोना संक्रमित मामलों की संख्या बढ़ती जा रही हैं। सकारात्मक मामलों के साथ साथ मरने वालों की संख्या भी बढ़ रही है। आज हमें एक ऐसे शख्स के बारे में बताने जा रहे है, जो बीते 17 साल तक मंदिर में जाकर कपिराज(बंदर) को बिस्कुट खिलाया करते थे, लेकिन कोरोना से संक्रमित होने के बाद इलाज के दौरान इस व्यक्ति के मरने के बाद ये कपिराज सात किलोमीटर की दूरी तय की और उस व्यक्ति के घर पहुंचे। स्थानीय लोग भी इस घटना को देखकर आश्चर्यचकित रह गए।
जानकारी के अनुसार, बायड में अपने परिवार के साथ रहने वाले एक व्यापारी नेता सुरेश दरजी पिछले 17 वर्षों से बायोड से 7 किमी दूर एक मंदिर में कपिराज को बिस्कुट खिलते और हर शनिवार को कपिराजराज के दर्शन करने जाते थे। सुरेश दरजी ने अपने बेटे की शादी के दिन भी अपने कर्तव्य को प्राथमिकता दी। बेटे की शादी शनिवार को होने वाली थी, इसलिए सुरेश पहले कपिराज को बिस्किट खिलाने गए और फिर बेटे की शादी में पहुंचे।
इसके बाद कुछ दिनों पहले सुरेश दर्जी कोरोना से संक्रमित हो गए और उनकी इलाज के दौरान मौत हो गई। इन सालों में कपिराज का सुरेश दरजी के प्रति प्रेम बहुत मजबूत हो चुका था और चूंकि वे शनिवार को कपिराज को बिस्कुट खिलाने के लिए नहीं पहुंचे थे, तो सोमवार सुबह कपिराज की टोली सुरेश दरजी के घर पहुँच गई। इस घटना ने सुरेश दरजी के बेटे सचिन और उनके परिवार को आश्चर्यचकित कर दिया गया और स्थानीय लोग भी इसे देखने के लिए घर से बाहर निकल आए।
उल्लेखनीय है कि गुजरात को परोपकारी लोगों की भूमि कहा जाता है। अगर देश के किसी भी राज्य में प्राकृतिक आपदा आती है, तो गुजरात के लोग मदद के लिए आगे आते हैं। ऐसा ही एक मामला हाल ही में सामने आया था। एक व्यक्ति प्रतिदिन गाय को रोटी देता था और उसकी देखभाल करता था और जब इस व्यक्ति की मृत्यु हो गई थी, तो गाय उस व्यक्ति की अंतिम यात्रा में आ जाती है और फिर वह चली जाती है। ये उदाहरण है कि यदि कोई मूक प्राणी, पशु और पक्षी के प्रति दया और प्रेम रखते हैं, वे पशु पक्षी भी उनसे भावनात्मक रूप से जुड़ जाते हैं।

इन टॉपिक्स पर और पढ़ें:


ये भी पढ़ें