तिरंगा फहराने से पहले अपने राष्ट्रीय ध्वस्त से जुड़े इन नियमों को तो जान लो!

प्रतिकारात्मक तस्वीर

ध्वज संहिता के अन्तर्गत सभी नियमों, रिवाजों, औपचारिकताओं और निर्देशों को एक साथ लाने का प्रयास किया गया है। इसमें राष्ट्रीय ध्वज को अपने व्यक्तिगत प्रतिष्ठानों, घरों इत्यादि में फहराने से संबंधित नियम, कानून और परंपराओं का जिक्र है।

इस समय देश में आजादी के 75वें वर्ष के उपलक्ष्य में देश में ‘हर घर तिरंगा’ अभियान चल रहा है। देशभर में घर-घर तिरंगा फहराने के अभियान को लोगों का भारी सहयोग मिल रहा है। इसरो ने कल रविवार को श्रीहरिकोटा से एक विशेष उपग्रह प्रक्षेपित कर अंतरिक्ष में तिरंगा फहराया। तिरंगा फहराने को लेकर तरह-तरह के तर्क-वितर्क हैं। तिरंगा फहराने के संबंध में प्रेस सूचना ब्यूरो द्वारा जारी आचार संहिता के कुछ अंश यहां दिए गए हैं।
ध्वज संहिता के अन्तर्गत सभी नियमों, रिवाजों, औपचारिकताओं और निर्देशों को एक साथ लाने का प्रयास किया गया है। इसमें राष्ट्रीय ध्वज को अपने व्यक्तिगत प्रतिष्ठानों, घरों इत्यादि में फहराने से संबंधित नियम, कानून और परंपराओं का जिक्र है। यह संहिता 2002 में बनाई गई थी। इसमें संशोधन भी किया जा चुका है और अन्य प्रावधान जोड़े गए हैं।
प्रश्न : राष्ट्रीय ध्वज को बनाने के लिए किन सामग्रियों का उपयोग किया जा सकता है?
उत्तर : भारतीय ध्वज संहिता, 2002 को 30 दिसंबर 2021 को संशोधित किया गया है। अब राष्ट्रीय ध्वज कॉटन पॉलिएस्टर ऊन रेशमी खादी के कपड़े, हाथ से काते और हाथ से या मशीन से बनाया जा सकता है।
प्रश्न : राष्ट्रीय ध्वज बनाने के लिए सही आकार और समरूपता क्या है?
उत्तर : भारतीय ध्वज संहिता के अनुच्छेद 1.3 और 1.4 के अनुसार, राष्ट्रीय ध्वज आकार में आयताकार होना चाहिए। झंडे को किसी भी आकार का बनाया जा सकता है लेकिन राष्ट्रीय ध्वज की लंबाई और ऊंचाई (चौड़ाई) का अनुपात 3:2 होना चाहिए। 
प्रश्न : क्या मैं अपने निवास पर राष्ट्रीय ध्वज फहरा सकता हूँ?
उत्तर : भारतीय ध्वज संहिता के अनुच्छेद 2.2 के अनुसार, एक सार्वजनिक, निजी संगठन या एक शैक्षणिक संस्थान का सदस्य राष्ट्रीय ध्वज की गरिमा और सम्मान को बनाए रखते हुए सभी दिनों या कभी-कभी राष्ट्रीय ध्वज को प्रदर्शित करेगा। घर में राष्ट्रीय ध्वज फहराते समय नागरिकों को राष्ट्रीय ध्वज की गरिमा और सम्मान का पूरा ध्यान रखना चाहिए।इससे जुड़ी कुछ बातें हैं जिनका पालन करना करें। जब भी राष्ट्रीय ध्वज को प्रदर्शित किया जाता है,तो वह सम्मान की स्थिति में होना चाहिए। अगर राष्ट्रीय ध्वज क्षतिग्रस्त हो तो उसे प्रदर्शित नहीं किया जाना चाहिए। ध्वज पर कुछ भी लिखा या छपा नहीं होना चाहिए। किसी अन्य ध्वज या झंडे के साथ एक ही मास्टहेड(बराबर ऊंचाई)से झंडा ना फहरायें।
प्रश्न : क्या आधा झुका हुआ ध्वज फहराना चाहिए?
उत्तर : भारत सरकार द्वारा अधिसूचित अवसरों को छोड़कर राष्ट्रीय ध्वज को आधा झुका हुआ नहीं फहराया जाना चाहिए। आधा काठी (आधा मस्तूल) पर राष्ट्रीय ध्वज फहराते समय, पहले इसे ध्वज के शीर्ष पर फहराएं और फिर इसे आधा झुकाएं। दिन के अंत में राष्ट्रीय ध्वज को नीचे करने से पहले, इसे फिर से ऊपर फहराया जाना चाहिए।
प्रश्न : घर में राष्ट्रीय ध्वज फहराते समय मुझे किन बातों का ध्यान रखना चाहिए?
उत्तर : जब भी राष्ट्रीय ध्वज फहराया जाता है, तो उसे पूरे सम्मान में रखा जाना चाहिए और एक विशेष तरीके से रखा जाना चाहिए। गंदा ख़राब हुआ या फटा हुआ राष्ट्रीय ध्वज प्रदर्शित नहीं किया जाना चाहिए। 
प्रश्न : राष्ट्रीय ध्वज को गलत तरीके से फहराने से बचने के लिए मुझे क्या ध्यान रखना चाहिए?
उत्तर : राष्ट्रीय ध्वज को कभी भी उल्टा करके नहीं फहराना चाहिए। झंडे की नारंगी पट्टी कभी नीचे नहीं होनी चाहिए।गंदा, बिगड़ा या फटा हुआ राष्ट्रीय ध्वज नहीं फहराना चाहिए। राष्ट्रीय ध्वज किसी व्यक्ति या वस्तु की सलामी के नीचे नहीं होना चाहिए। कोई अन्य ध्वज राष्ट्रीय ध्वज के ऊपर, ऊपर या बगल में समान ऊंचाई पर नहीं रखा जाना चाहिए; जिस झंडे पर राष्ट्रीय ध्वज फहरा रहा है, उसके ऊपर फूल या फूल सहित कोई वस्तु या प्रतीक नहीं रखा जाएगा।
राष्ट्रीय ध्वज को जमीन या फर्श को नहीं छूना चाहिए या पानी में तैरना नहीं चाहिए।
प्रश्न : राष्ट्रध्वज को किस प्रकार निकालना चाहिए?
उत्तर : अनुच्छेद 2.2 के अनुसार, यदि राष्ट्रीय ध्वज क्षतिग्रस्त हो जाता है, तो इसे पूरी तरह से निजी तरीके से निपटाया जाना चाहिए और राष्ट्रीय ध्वज की गरिमा को ध्यान में रखते हुए जला दिया जाना चाहिए या अन्यथा इसका निपटान किया जाना चाहिए।
यदि राष्ट्रीय ध्वज कागज का बना है और आम जनता द्वारा फहराया जाता है, तो ऐसे झंडे को जमीन पर फेंक कर नहीं फेंकना चाहिए। राष्ट्रीय ध्वज की गरिमा का सम्मान करते हुए ऐसे झंडे का निजी तौर पर निस्तारण किया जाना चाहिए।

इन टॉपिक्स पर और पढ़ें:


ये भी पढ़ें