ऑस्ट्रेलिया : सोने का पत्थर समझकर अपने पास रखा, अब निकला करोड़ों का खजाना

(Photo Credit : divyabhaskar.com)

ऑस्ट्रेलिया के मेलबर्न का मामला, 2015 में गिरा था उल्कापिंड

ऑस्ट्रेलिया में 2015 में डेविड हॉल को मेलबर्न शहर के पास मेरिबोरो रीजनल पार्क में एक पत्थर मिला। इस पत्थर का भीतरी भाग सोना का होगा ये सोचकर डेविड ने पत्थर को संभालआकर लिया। एक दिन मेलबोर्न म्यूजियम जाने पर डेविड ने महसूस किया कि यह सोने से भी अधिक मूल्य का खजाना है। यह कोई साधारण पत्थर नहीं बल्कि उल्कापिंड है और 4.6 अरब साल पुराना भी है।
आपको बता दें कि आम बोलचाल में हम अंतरिक्ष से आने वाली चट्टान को 'गिरता हुआ तारा' या 'उल्का' कहते हैं। यह उल्कापिंड कभी-कभी वायुमंडल में पूरी तरह जले बिना जमीन पर पहुंच जाता है, जिसे हम 'उल्कापिंड' कहते हैं। डेविड जब पार्क में टहल रहा था तो उसके मेटल डिटेक्टर में कुछ पाया गया।इस पत्थर को सोने की खान समझकर डेविड ने पत्यर को अपने पास रखा लिया। जब वह घर आया तो उसने पत्थर को नुकीली चीजों और तेजाब से तोड़ने की कोशिश की लेकिन वह नहीं टूटा। निराश होकर दाऊद ने पत्थर को अपने घर में रख लिया। डेविड ने हाल ही में जब मेलबर्न संग्रहालय का दौरा किया, तो भूविज्ञानी विभाग को देखते ही उनकी आंखें फटी की फटी रह गईं। यह वस्तु सोने से कई गुना अधिक कीमती थी।
इस बारे में मेलबर्न संग्रहालय के भूविज्ञानी डर्मोट हेनरी ने कहा कि यह अजीब चट्टान अंतरिक्ष में यात्रा करने के बाद पृथ्वी पर आई थी। यह एक मूल्यवान उल्का है। मैं इस क्षेत्र में 37 साल से काम कर रहा हूं लेकिन अभी तक मैंने केवल दो असली उल्का देखे हैं। उल्कापिंड का वजन 17 किलो है। मेरिबोरो रीजनल पार्क में पाए गए उल्कापिंड के नाम पर उल्कापिंड का नाम रखा गया है। लोहे और निकल के मिश्रण से बना यह उल्कापिंड वजन में भारी है।
आगे भूविज्ञानी हेनरी ने कहा, "अंतरिक्ष अनुसंधान के लिए उल्काएं बहुत महत्वपूर्ण हैं। यह हमें सौर मंडल की आयु, गठन और रसायन विज्ञान के बारे में जानकारी देता है। कई उल्कापिंड 'स्टार डस्ट' हैं और हमारे सौर मंडल से भी पुराने हैं। मेरा अनुमान है कि डेविड को जो उल्कापिंड मिला वह 100 से 1000 साल पहले पृथ्वी पर गिरा था। बहुत से लोग मेरे पास आते हैं यह सोचकर कि पत्थर उल्का है। उल्कापिंडों के ज्ञान की कमी के कारण, वे 200 से अधिक वर्षों तक पृथ्वी पर रहते हैं और हम उन्हें सामान्य पत्थर मानते हैं।

इन टॉपिक्स पर और पढ़ें:


ये भी पढ़ें