सूरतः अब ऑक्सीजन स्तर को बढ़ाने वाले मास्क वितरित होंगे

रक्षक ग्रुप द्वारा ऑक्सजन लेवल को बढ़ाने वाला तैयार कराया जा रहा मास्क

रक्षक ग्रुप कपूर, लौंग, सूंठ, अजवाइन के घोल से धोए जाने वाला मास्क करा रहा तैयार

कोरोना वायरस की दूसरी लहर में अधिक संक्रमण फैलने के कारण अचानक ऑक्सीजन के स्तर को कम करके लोगों के लिए घातक साबित हो रही है। इस महामारी में सबसे बड़ी समस्या सांस को सामान्य रखना और यह सुनिश्चित करना है कि फेफड़े जुकाम, खांसी आदि से प्रभावित न हो। इस संबंध में, भारत के आयुर्वेदिक संस्कार और पारंपरिक चिकित्सा प्रभावी साबित हो रहे हैं। भूखों को भोजन सहित के अन्य सेवा कार्य करते रक्षक ग्रुप इस संबंध में एक नया आविष्कार के साथ आगे बढ़ रहा है। रक्षक ग्रुप द्वारा कपूर, लौंग, सूंठ एवं अजवाइन द्रवण युक्त कपड़ा से लगभग 50,000 वाशेबल मास्क बनाए हैं।
रक्षक ग्रुप से राष्ट्रीय अध्यक्ष गौरव पटेल ने कहा कि कपूर, लौंग, सूंठ एवं अजवाइन इन चार सामग्री लेकर इसका द्रवण तैयार किया गया है। इस द्रवण में मास्क बनाने वाले सूती कपड़े भिगोकर मास्क बनाया गया है। यह मास्क  23 तारीख से  कोरोना के सकारात्मक रोगियों को ही नहीं बल्कि प्रत्येक परिवार को 5-5 मास्क देने की तत्परता दिखाई है। 
पूरी प्रक्रिया के बाद, इस समाधान के पास वाले कपड़े को भाप से दबाया जाता है। फिर मास्क बनाया जाता है। सबसे महत्वपूर्ण बात यह है कि यह मास्क एक धोने योग्य मास्क है, यानी एक बार इस्तेमाल किया जाने वाला डिस्पोजेबल मास्क नहीं। हमारी महिला शाखा की राष्ट्रीय अध्यक्ष पिंकीबेन द्वारा पूरी प्रक्रिया की जा रही है। हमने पहले कुछ मास्क बनाने की कोशिश की है, और कई बार धोने के बाद भी, मास्क अभी भी वनस्पत‌ि की सुगंध को बरकरार रखता है। ऑक्सीजन के स्तर को बनाए रखने में कपूर सहित सामग्री एक बड़ी भूमिका निभाती है।
पिंकीबेन ने कहा, "कपूर से ऑक्सीजन का स्तर सामान्य बना रहता है।" श्वसन प्रक्रिया अच्छी तरह से हो जाती है, और सूंठ, लौंग, आजवाइन किसी व्यक्ति को सर्दी, सिरदर्द जैसी समस्याओं से बचाता है। कोरोना संक्रमण में मास्क बहुत आवश्यक होता है, वहीं मास्क में जड़ी-बूटियों को मिलाना भी अधिक फायदेमंद साबित होता है।

इन टॉपिक्स पर और पढ़ें:


ये भी पढ़ें