वड़ोदरा सामुहिक दुष्कर्म मामले में पीड़िता द्वारा आत्महत्या की चर्चाओं के बीच अब हत्या के एंगल पर भी नज़र

(Photo Credit : etvbharat.com)

1 नवंबर को गुजरात क्वीन ट्रेन में मिली थी लड़की की लाश, आत्महत्या की आशंका के बाद पुलिस जांच से हो रहे हैं नए नए खुलासे

वडोदरा में गैंगरेप और सुसाइड केस में नया मोड़ आ गया है। नई जानकारी के सामने आने से अब ऐसा लग युवती की आत्महत्या नहीं बल्कि उसकी हत्या की गई है। सामने आए नए सबूत इस बात की ओर ध्यान केंद्रित कर रहे है कि पहले युवती की हत्या की गई और उसका शव ट्रेन की सीट पर लटका दिया गया। इस मामले में संजीवभाई नाम के एक शख्स का भी नाम सामने आया है, जिसे लड़की ने ट्रेन से मैसेज किया था। गुजरात क्वीन के नवसारी से पीछा करते हुए लड़की ने 'संजीवभाई' को वाट्सएप मैसेज कर कहा, 'मेरा किडनैप है, प्लीज मुझे बचाओ...!
जी न्यूज़ की रिपोर्ट के अनुसार जिस रात युवती की मौत हुई, उस दिन युवती गुजरात क्वीन ट्रेन में सवार होकर महाराष्ट्र जा रही थी. उस समय नवसारी के कुछ लोग उसका पीछा कर रहे थे। पीछा करने वालों ने लड़की को अगवा कर लिया। युवती किसी तरह ट्रेन के वाशरूम में भाग गई। जहां से उन्होंने संजीवभाई नाम के शख्स को मैसेज भेजा. यह मैसेज 3 नवंबर की रात 11.31 बजे भेजा गया था. अब पूरे मामले में संजीवभाई कौन हैं यह जांच का विषय है।
आपको बता दें कि युवती ने ट्रेन से संजीव भाई को , “Sorry Sanjivbhai, Pl save me. out for MHE work, he follow me from NVS. Want to kill anyhow. I cant call in train… get phone somehow... parents dont know anything. I Kidnapped. I am in washroom now Gonna kill Pl call waiting..” संदेश भेजा था।
ऐसे में अब ही यह युवती महाराष्ट्र क्यों जा रही थी यह भी चर्चा का विषय है। साथ ही यह संजीवभाई कौन हैं जिनसे उन्होंने मदद की गुहार लगाई थी। वहीं लड़की ने मैसेज में इस शख्स से सॉरी भी कहा है. आशंका जताई जा रही है कि मैसेज भेजे जाने के बाद लड़की की हत्या की गई होगी। युवती गुजरात क्वीन एक्सप्रेस ट्रेन नं. वह 19034 में महाराष्ट्र जा रही थीं। संभव है कि नवसारी से निकलने के बाद ही उनके साथ कोई हादसा हुआ हो।
मामले की बात करें तो 1 नवंबर को गुजरात क्वीन ट्रेन में से एक युवती की लाश सीट से झूलती मिली थी। पहले तो इसे आत्महत्या का मामला माना गया पर पुलिस जांच में मिली डायरी से पता चला कि 28 तारीख को पता चला कि उसके साथ वैक्सीन ग्राउंड में रेप किया गया था. पीड़िता ने घटना की सूचना ओएसिस संगठन को दी। अगर संस्था ने पुलिस को सूचना दी होती तो लड़की की जान बच जाती।
वहीं, पुलिस ने मोबाइल फोन लोकेशन के आधार पर घटना के वक्त वैक्सीन ग्राउंड में मौजूद 54 रिक्शा चालकों की पहचान की है। पुलिस अब तक 250 से अधिक रिक्शा चालकों से पूछताछ कर चुकी है, लेकिन अभी तक कुछ नहीं हुआ है। साथ ही युवती की डायरी से गायब हुए आखिरी पन्ने की फोटो मोबाइल एफएसएल को भेज दी गई है।

इन टॉपिक्स पर और पढ़ें:


ये भी पढ़ें