अहमदाबाद : रिक्षा में बैठी नेत्रहीन महिला के साथ युवक कर रहा था दुष्कर्म का प्रयास, महिला ने मचाया शोर तो भागने पर होना पड़ा मजबूर

प्रतिकात्मक तस्वीर

अंध महिला ने किया आरोपी का डटकर सामना, पुलिस स्टेशन में दर्ज करवाई शिकायत

देश भर में बढ़ रही दुष्कर्म की घटनाओं के बीच अहमदाबाद से सामने आया एक मामला लोगों की चर्चा का कारण बना हुआ है। अहमदाबाद में रिक्षा में जाने वाली एक अंध महिला के साथ कुछ लोगों ने दुष्कर्म करने का प्रयास किया था। हालांकि महिला ने भी अपनी इज्जत बचाने के लिए आरोपियों का डटकर सामना किया और उन्हें भागने पर मजबूर कर दिया। इसके बाद अंध महिला ने पुलिस स्टेशन में शिकायत दर्ज करवाई। अपनी पत्नी द्वारा किए इस कृत्य पर महिला के अंध पति ने भी उसकी जमकर तारीफ की और कहा की भले ही हम अंध है पर फिर भी ऐसे हेवानों को सबक तो सिखाना ही पड़ेगा। 
सूत्रों से मिली जानकारी के अनुसार, अहमदाबाद के बावला में रहने वाले एक प्रज्ञाचक्षु महिला कुछ दिनों पाले अंधजन मंडल में राशन किट लेने गई थी। राशन किट लेने के बाद वापिस अपने घर जाने के लिए सरखेज सर्कल से बावला के लिए रिक्षा लेने पहुंची। इस दौरान उनके पास एक व्यक्ति आया और उनसे कहा की वह उनके गाँव में ही रहता है, तो वह उन्हें घर जाने में सहायता करेगा। यह सुनकर अंध महिला को अंधेरे में सहायता मिलने की खुशी हुई। दोनों वापिस जाने लगे, हालांकि बीच में ही व्यक्ति ने रिक्षा चालक को रिक्षा रोकने के लिए कहा और उसे काफी धमकाया भी था। इसके चलते रिक्षाचालक ने दोनों को नीचे उतार दिया और वहाँ से चला गया। 
रिक्षा में से निकलने के बाद व्यकित ने अंध महिला का हाथ पकड़ कर उसके साथ जबरदस्ती करने की कोशिश की। इस बात से पहले तो महिला डर गई थी, पर इसके बाद उन्होंने व्यक्ति के खिलाफ खुद को बचाने की कोशिश करते हुये शोर मचाना शुरू कर दिया। महिला द्वारा शोर मचाने के चलते शख्स वहाँ से भाग गया और साथ में महिला की राशन की किट भी लेता गया। घटना के बाद महिला किसी तरहा सही-सलामत घर पहुंचे थे। घर आकर उन्होंने अपने पति से सारी बात बताई। इसके बाद पति-पत्नी दोनों ने हिम्मत दिखाकर पुलिस स्टेशन में शिकायत दर्ज करवाई थी।
महिला की शिकायत के आधार पर पुलिस ने घटना स्थल पर पहुँचकर कार्यवाहही शुरू की थी। क्योंकि महिला अंध थी तो वह उसका वर्णन करने में असक्षम थी। जिसके चलते पुलिस ने महिला के वर्णन के आधार पर जगह पर पहुँचकर सभी सीसीटीवी की चेकिंग की थी। इसी दौरान जिस रिक्षाचालक ने दोनों को बिठाया था, उसने पुलिस को आरोपी का वर्णन किया था। इसके आधार पर पुलिस ने आरोपी को हिरासत में लिया था। अंध दंपत्ति ने इस पूरे मामले में पुलिस द्वारा उठाई गई मेहनत और उनके प्रयास के लिए उनकी तारीफ की थी, वहीं दूसरी तरफ एसपी वीरेंद्र सिंह यादव ने कहा कि इसी तरह यदि हर कोई हिम्मत दिखाये तो किसी भी तरह के आरोपी को हिरासत में लिया जा सकता है।

इन टॉपिक्स पर और पढ़ें:


ये भी पढ़ें