अहमदाबाद : नेवले की पूंछ से पेइन्ट ब्रश बनाने वाला शख्स रंगे हाथों पकड़ाया, जानें पूरी हकीकत

(Photo Credit : divyabhaskar.co.in)

अन्य राज्यों में नेवला का शिकार करके अहमदाबाद भेजा जाता, जिससे अहमदाबाद में बनाया जाता था ब्रश

वन्यजीवों के चमड़े और एनी अंगों के लिए राज्य में वन्यजीव से जुड़े अपराध लगातार बढ़ रहे हैं। ऐसे में अब नेवले को मारकर उसकी पूंछ से पेंट ब्रश बनाने और बेचने के राज्य के अब तक के सबसे बड़े गिरोह का पर्दाफाश हुआ है। सरसपुर में बी.आर. ब्रश उद्योग के नाम पर पेंट ब्रश का धंधा चलाने वाले एक शख्स को इस अपराध के लिए रंगेहाथ पकड़ा गया है। वन्यजीव अपराध नियंत्रण ब्यूरो के पश्चिम क्षेत्रीय उप निदेशक योगेश वारखड को सूचित किया गया कि कुछ व्यक्ति अहमदाबाद नेवले के पुंछ से बने ब्रश बेच रहे थे।
आपको बता दें कि नेवला अनुसूची -2 वन्यजीव है और इसके अंगों को पकड़ने और बेचने पर प्रतिबंध है। वन्यजीव अपराध नियंत्रण ब्यूरो और राज्य वन विभाग ने सूचना मिलने और अहमदाबाद सिटी रेंज के वन अधिकारी के साथ चर्चा करने के बाद एक संयुक्त अभियान शुरू किया। जांच में बी.आर. टीम एक डमी ग्राहक बन ब्रश इंडस्ट्रीज के मालिक प्रतीक शाह के पास पहुंची, और उनसे नेवले का ब्रश मांगा। प्रतीक शाह ने उन्हें 100 मिमी तक के आकार के विभिन्न श्रेणियों के ब्रश दिखाए और उनके लिए 300 रुपये से 600 रुपये के थोक मूल्य की पेशकश की। सामान सामने आते ही टीम ने उसे रंगेहाथ पकड़ लिया और उसके खिलाफ शिकायत दर्ज कराई गई।
(Photo Credit : divyabhaskar.co.in)
इसके बाद प्रतीक की फर्म की जाँच में विभिन्न आकारों के 7605 ब्रश मिले। गुजरात में पहली बार इतनी बड़ी संख्या में नेवला अंगों को देखकर वन विभाग भी हैरान रह गया। ब्यूरो और वन विभाग के अनुसार, इतने ब्रुशों को बनाने के लिए कम से कम 10,000 नेवलों को मारना पड़ा होगा। यह पूछे जाने पर कि उन्होंने इतने सारे नेवलों का शिकार कहां और कैसे किया तो प्रतीक ने कहा कि वह उत्तर प्रदेश के कुछ लोगों के संपर्क में थे जो नेवलों का शिकार करते थे और बालों की आपूर्ति करते थे, जिनसे ब्रश बनाया और बेचा जाता था।
जानकारी में सामने आया कि अन्य राज्यों में नेवला का शिकार करके अहमदाबाद भेजा गया। वहाँ बी.आर. ब्रश की दुकान का मालिक अलग-अलग साइज के ब्रश बनाता और बेचता था। वन विभाग ने कहा कि नेवले की पूंछ पर बाल बहुत चिकने होते हैं। साथ ही कलाकारों में यह गलतफहमी है कि नेवले की पूंछ से कला तेज चमकती है। दूसरी ओर, सिंथेटिक ब्रश अभी तक विकसित नहीं हुए हैं जिनका उपयोग अक्सर किया जा सकता है, क्योंकि सिंथेटिक ब्रश के रेशे पेंट को साफ करने के लिए धोए जाने पर टूट जाते हैं। जबकि नेवला की पूंछ के बाल अक्सर धोए जा सकते हैं, यह नरम होता है लेकिन इतना मजबूत होता है कि टूटता नहीं है, इसलिए यह बहुत लंबे समय तक चलता है।

इन टॉपिक्स पर और पढ़ें:


ये भी पढ़ें