अहमदाबाद : हिम्मतनगर में बनेगी भगवान परशुराम की राज्य की सबसे ऊंची प्रतिमा, सीआर पाटिल ने भूमि पूजन किया

गुजरात बीजेपी के प्रदेश अध्यक्ष सीआर पाटिल

जिला पंचायत से चपरिया चार रोड तक जाने वाली सड़क का नाम भगवान परशुराम पार्क रखा गया

साबरकांठा जिले के हिम्मतनगर शहर के बीचोबीच भगवान परशुराम की विशाल प्रतिमा का निर्माण किया जाएगा। स्थानीय ब्रह्म समाज द्वारा एक विशाल प्रतिमा का आयोजन किया गया था। जिसका खातमुहूर्त भारतीय जनता पार्टी के प्रदेश अध्यक्ष सीआर पाटिल के हाथों किया गया। इस बीच टावर चौक क्षेत्र में स्थित उद्यान और टावर चौक से पुरानी जिला पंचायत से चपरिया चार रोड तक जाने वाली सड़क का नाम भगवान परशुराम पार्क और सड़क का नाम सीआर पाटिल के हाथों किया गया। 
हिम्मतनगर में गुजरात की परशुराम की सबसे ऊंची प्रतिमा का निर्माण होने जा रहा है। 25 फीट ऊंची इस प्रतिमा को बनाने की योजना ब्रह्म समाज द्वारा बनाई गई है। प्रदेश भाजपा अध्यक्ष ने खातमूहुर्त और नामकरण कार्यक्रम में शिरकत की और लोगों से चंदा देने की अपील की। ताकि एक बेहद खूबसूरत मूर्ति तैयार हो सके। इसके लिए पहले चरण में चंद मिनटों में 65 लाख रुपये का चंदा इकट्ठा किया गया।

तीन मिनट में 65 लाख रु


सीआर पाटिल ने स्थानीय अग्रणियों, राजनीतिक अग्रणियों और ब्रह्म समाज के नेताओं से अपील की। जिसके लिए उन्होंने अपने ही नाम से शुरुआत की। जिसमें महज तीन से चार मिनट में 65 लाख रुपये का डोनेशन मिल गया। जिसमें साबरकांठा के सांसद दीपसिंह राठौर को 2.5 लाख, खाद्य एवं नागरिक आपूर्ति मंत्री गजेंद्रसिंह परमार 5.51 लाख, बाबूभाई पुरोहित और प्रफुल्ल व्यास 5-5 लाख, गुजरात राज्य भाजपा के सोशल मीडिया संयोजक सिद्धार्थ प्रफुलभाई पटेल 2.51 लाख और राज्य मीडिया के संयोजक यज्ञेश दवे 2.5 लाख रुपये का दान दिये।  साबरडेरी के अध्यक्ष ने 5.51 लाख रुपये, भाजपा जिलाध्यक्ष ने 1.51 लाख रुपये, गोपाल सिंह राठौर ने 2.51 लाख रुपये, मोडासा के भीखू सिंह परमार, अतुल दीक्षित, अश्विन भट्ट और जिग्नेश जोशी ने एक-एक लाख रुपये का दान देने की घोषणा की।

पाटिल ने दान किए 11 लाख रुपये


खुद सीआर पाटिल ने भी परशुराम की प्रतिमा बनाने के लिए 11 लाख रुपये दिए थे। सीआर पार्टिल ने ब्रह्म समाज के बारे में भी कुछ बातें की और समाज में ब्रह्म समाज के महत्व के बारे में भी बताया। उन्होंने यहां अपनी कुल देवी माता रेनाका माता के बारे में भी बात की। उन्होंने कहा कि जहां भगवान परशुराम की प्रतिमा का निर्माण किया जा रहा है, वहीं अन्य कार्यक्रम भी स्थगित कर दिए गए हैं। उन्होंने राजनीति में ब्राह्मणों के स्थान के बारे में भी बात की। उन्होंने कहा कि इस समाज ने अन्य समाजों के साथ संबंधों के माध्यम से अपने ही समाज के जनप्रतिनिधियों को सभा में भेजा है।

इन टॉपिक्स पर और पढ़ें:


ये भी पढ़ें