अहमदाबाद : 12 जुलाई को कोरोना दिशानिर्देशों के साथ निकलेगी रथ यात्रा

अहमदाबाद में रथ यात्रा की फाइल तस्वीर

बैठक के बाद मुख्यमंत्री विजय रूपाणी ने किया रथ यात्रा को मंजूरी देने का फैसला किया

कोरोना महामारी में कारण अहमदाबाद में गत वर्ष भगवान जगन्नाथ जी की यात्रा को रद्द कर दिया गया था। वहीं इस साल भी यात्रा को लेकर शंका बनी हुई है। ऐसे में अब इस रथ यात्रा को लेकर एक बड़ी खबर सामने आई है। मुख्यमंत्री विजय रूपाणी ने रथ यात्रा को लेकर बुधवार को कोर कमेटी की बैठक की। इस दौरान लोगों की श्रद्धा और आस्था को देखते हुए कोरोना गाइडलाइन के साथ रथ यात्रा को मंजूरी देने का फैसला किया गया। अहमदाबाद में भगवान जगन्नाथ जी की 144वीं परंपरागत रथ यात्रा के लिए अनुमति मिल गई है। हालांकि कि इसके लिए कुछ शर्तें है। इस बार रथ यात्रा के समय शहर में कर्फ्यू लगाया जायेगा और 19 किलोमीटर के रूट को सिर्फ 3 रथ और 2 वाहनों के साथ अनुमति दी गई है। वहीं इस बार यात्रा के दौरान प्रसाद का वितरण नहीं किया जाएगा। गुजरात के गृह मंत्री प्रदीप सिंह जडेजा ने इस बारे में जानकारी दी। 
उन्होंने बताया, "भगवान जगन्नाथ के प्रति लोगों में गहरी श्रद्धा व आस्था है। कोरोना महामारी के चलते पिछले साल रथ यात्रा नहीं निकल सकी थी। राज्य में कोरोना की दूसरी लहर पर पूरी तरह काबू पा लिया गया है। इस साल कोरोना सुरक्षा को लेकर जारी दिशा निर्देशों का पालन करते हुए रथ यात्रा निकाली जा सकेगी। रथ यात्रा की सुरक्षा के लिए एसआरपी की 20 कंपनियां तैनात की जाएंगी।" जडेजा ने संवाददाताओं से कहा, स्वास्थ्य विभाग के अधिकारियों और गुजरात सरकार के निरंतर प्रयासों से हम राज्य मंन कोरोना संक्रमितों की संख्या में कमी लाने में सफल रहे हैं। अभी ठीक होने की दर 98.54 प्रतिशत से अधिक है और संक्रमण दर 0.1 प्रतिशत है। राज्य में केवल 65 पॉजिटिव मामले थे और कल एक भी मौत की सूचना नहीं थी। पिछले 24 घंटों के दौरान, अहमदाबाद में केवल 2 पॉजिटिव मामले थे और वसूली दर 98.5 प्रतिशत थी। जडेजा ने कहा, खालासी युवा, जो परंपरागत रूप से तीन रथ खींचते हैं, उन्हें टीके लगवाने और आरटीपीसीआर नेगेटिव लाने की आवश्यकता होगी। उन्होंने कहा कि कुल साठ युवा तीन रथ खींचेंगे। इस वर्ष रथयात्रा जुलूस में हाथियों, झांकी ट्रकों, अखाड़े, भजन मंडलियों आदि को भाग लेने की अनुमति नहीं है।
यात्रा के बारे में उन्होंने आगे बताया, "12 जुलाई की सुबह, निज मंदिर से रथ यात्रा प्रारंभ होगी और सुबह सात से दोपहर दो बजे तक यात्रा चलेगी। हालांकि हर साल धूमधाम से निकलने वाली इस यात्रा में इस बार दर्शनार्थी रथ यात्रा में शामिल नहीं हो सकेंगे। जानकारी के अनुसार 12 जुलाई को भगवान जगन्नाथ यात्रा के दौरान होने वाली मंगला आरती में केंद्रीय गृहमंत्री अमित शाह सपरिवार शामिल होंगे। वहीं, कार्यक्रम में कई और अतिथि भी शामिल हो सकते हैं।

इन टॉपिक्स पर और पढ़ें:


ये भी पढ़ें