अहमदाबाद : पीएम नरेंद्र मोदी ने भावनगर को 6,626 करोड़ के विकास कार्यों का उपहार दिया

भावनगर में पीएम मोदी ने 2 किलोमीटर का भव्य रोड शो किया

कहा-गुजरात देश का पहला एलएनजी टर्मिनल बनाने वाला पहला राज्य

प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी गुजरात के दो दिवसीय दौरे पर हैं। उनके कार्यक्रम तीन शहरों में आयोजित किए गए हैं। जिसके तहत वह अहमदाबाद में मेट्रो रेल और सूरत में ड्रीम सिटी परियोजना का शुभारंभ करने जा रहे हैं। पीएम मोदी अपने दो दिवसीय दौरे के दौरान सबसे पहले सूरत पहुंचे। सूरत में विकास कार्यों का शुभारंभ करने के बाद पीएम मोदी भावनगर पहुंचे हैं। भावनगर में पीएम मोदी ने 2 किलोमीटर का भव्य रोड शो किया और लोगों का अभिवादन किया। रोड शो के बाद पीएम मोदी सभा स्थल पहुंचे। प्रधानमंत्री मोदी ने भावनगर, बोटाद और अमरेली जिलों के विकास कार्यों का लोकार्पण और शिलान्यास किया। जिसमें पीएम मोदी ने 817 करोड़ के 10 लोकार्पण और 5,810 करोड़ के 13 खातमुहूर्त सहित कुल मिलाकर 6,626 करोड़ के विकास कार्यों को एक ही दिन में गिफ्ट किया है। 

भावनगरवासियों को नवरात्रि की हार्दिक शुभकामनाएं


प्रधानमंत्री ने अपने संबोधन में भावनगर के लोगों को नवरात्रि की शुभकामनाएं दीं। इसके साथ ही पीएम मोदी ने कहा कि एक तरफ देश आजादी के 75वें साल में अमृत पर्व मना रहा है। तब भावनगर अपनी स्थापना के 300 वर्ष पूरे करने जा रहा है। 300 साल की इस यात्रा के दौरान भावनगर ने लगातार विकास किया है और सौराष्ट्र की सांस्कृतिक राजधानी के रूप में एक अलग पहचान बनाई है। प्रधानमंत्री ने आगे कहा कि इस विकास यात्रा को नया आयाम देने के लिए आज यहां करोड़ों रुपये की कई परियोजनाओं का शिलान्यास और शुभारंभ किया गया।

सौराष्ट्र में उद्योग, कृषि और पर्यटन की अपार संभावनाएं


पीएम मोदी ने कहा कि क्षेत्रीय विज्ञान केंद्र बनने से शिक्षा और संस्कृति के शहर के रूप में भावनगर की पहचान समृद्ध होगी। मैं भावनगर आया हूं और कहता हूं कि पिछले ढाई-तीन दशक में जो गूंज सूरत, वडोदरा एवं अहमदाबाद की रही है, अब वहीं गूंज राजकोट, जामनगर और भावनगर की रहने वाली हैं। सौराष्ट्र की समृद्धि में मेरा विश्वास और भी मजबूत है क्योंकि यहां उद्योग, कृषि और पर्यटन तीनों के लिए काफी संभावनाएं हैं।

राज्य के तटीय क्षेत्रों में सैकड़ों तटीय उद्योग विकसित हुए


प्रधानमंत्री ने कहा कि आज गुजरात में तीन बड़े एलएनजी टर्मिनल हैं। पेट्रोकेमिकल्स का हब है और गुजरात देश का पहला राज्य है, जहां देश का पहला एलएनजी टर्मिनल बनाया गया। राज्य के तटीय क्षेत्रों में सैकड़ों तटीय उद्योग विकसित हुए। कई छोटे और बड़े उद्योग विकसित किए। लोगों की ऊर्जा की मांग को पूरा करने के लिए कॉल टर्मिनलों का एक नेटवर्क भी स्थापित किया गया था। आज गुजरात के तटीय क्षेत्रों में कई बिजली संयंत्र विकसित किए गए हैं, जो न केवल गुजरात को बल्कि पूरे देश को ऊर्जा प्रदान करते हैं।

हमने गुजरात के तट को भारत की समृद्धि का प्रवेश द्वार बनाने के लिए ईमानदारी से प्रयास किया


भावनगर एक तटीय जिला है। गुजरात में देश की सबसे लंबी तटरेखा है। लेकिन आजादी के बाद कई दशकों तक तटीय विकास पर ध्यान न देने के कारण यह विशाल समुद्र तट लोगों के लिए एक बड़ी चुनौती बन गया। समुद्र का खारा पानी यहां के लोगों के लिए अभिशाप था। समुद्र के किनारे बसे गाँव वीरान हो गए। लोग इधर-उधर भागने लगे। कई युवा सूरत जाने लगे, यह स्थिति बहुत ही दुखद थी। पिछले 20 वर्षों में हमने गुजरात के तट को भारत की समृद्धि का प्रवेश द्वार बनाने के लिए ईमानदारी से प्रयास किया है। रोजगार के कई अवसर उपलब्ध हैं। गुजरात में कई बंदरगाहों का विकास किया। कई बंदरगाहों का आधुनिकीकरण किया गया है।

इन टॉपिक्स पर और पढ़ें:


ये भी पढ़ें