अहमदाबाद: रात में बिना बताए अचानक जांचपड़ताल पर निकले जोन-3 के डीसीपी, सामने आए 26 कामचोर पुलिसकर्मी

प्रतिकात्मक तस्वीर

अहमदाबाद में दिन ब दिन बढ़ रहे है आपराधिक मामले, पुलिस समय से पहले घर जाकर सो रही है

अहमदाबाद में दिन ब दिन बढ़ रही चोरी, डकैती और हत्या जैसी घटनाओं को पुलिस रोकने में नाकाम रही है। ऐसे में जोन-3 के डीसीपी मकरंद चौहान ने सोमवार को रात में गश्त कर अपराध बढ़ने की वजह का पता लगाया, जिसमें चौंकाने वाला सच सामने आया। जांच में 1 एसीपी, 2 पीआई, 18 पीएसआई और पांच अन्य पुलिस कर्मियों सहित 26 पुलिस अधिकारियों का पोल खुला, जो रात में गश्त करने के बजाय जल्दी घर जाकर सो गए थे, जबकि एक महिला पीएसआई समेत छह पुलिस कर्मियों को नाइट ड्यूटी पर सादे कपड़ों में पकड़ा गया।
आपको बता दें कि लंबे समय से अहमदाबाद शहर में पुलिस अधिकारी रात में गश्त करने में फिसड्डी रहे हैं। इनमें कुछ अधिकारी काम करने के बजाय जल्दी घर भी चले गए। शहर में अचानक से अपराध बढ़ने के कारण का पता लगाने की कोशिश करते हुए जोन-3 के डीसीपी मकरंद चौहान ने सोमवार रात शहर भर का अचानक निरीक्षण किया। अधिकांश पुलिस अधिकारी चेकिंग में रंगेहाथ पकड़े गए। रात्रि गश्त में पुलिस अधिकारियों को चोरी, डकैती, हत्या, अपहरण जैसी घटनाओं को रोकने की कोशिश करनी होती है। साथ ही वाहन चेकिंग, होटल रेस्टोरेंट की भी जांच की जानी है। शहर के पूर्वी हिस्से में एक पीआई, जिसके इलाके में लूटपाट की घटनाएं सबसे ज्यादा हैं, पर वो एक घंटा पहले घर जा चुके थे।
इस संबंध में जोन-3 के डीसीपी मकरंद चौहान ने बताया कि इस अचानक निरीक्षण में पता चला कि 26 पुलिस अधिकारी अपनी ड्यूटी खत्म होने से पहले घर जा रहे थे। शहर में रात के दौर में पुलिस अधिकारियों को वरिष्ठों द्वारा निर्धारित अवधि के लिए ड्यूटी पर रहना अनिवार्य है। रात की ड्यूटी पर तैनात पुलिस अधिकारियों को आमतौर पर आधी रात से सुबह छह बजे तक गश्त करनी पड़ती है। रात शुरू करने से पहले अधिकारी को पुलिस कंट्रोल रूम के रजिस्टर में एक एंट्री करनी होती है। फिर सुबह छह बजे कंट्रोल रूम को फिर से रजिस्टर में दर्ज करना पड़ता है, लेकिन कागज पर यह सामने आया है कि कुछ पुलिस अधिकारी सुबह 05 बजे पुलिस कंट्रोल रूम में एंट्री कर चले जाते है।

इन टॉपिक्स पर और पढ़ें:


ये भी पढ़ें