अहमदाबाद : हनीट्रैप में फांसने का काला कारोबार करने वाले पुलिसिया गिरोह की एक और सदस्य गिरफ्तार

प्रतिकात्मक तस्वीर

व्यापारियों को फंसाकर युवतियाँ बुलाती थी होटल में जहां पुलिस मारती थी छापा, समाधान के नाम पर मांगी जाती थी भारी रकम

अहमदाबाद क्राइम ब्रांच की टीम ने हनीट्रेप मामले में महिला पुलिस स्टेशन के पूर्व महिला पुलिस स्टेशन के पीएसआई जे के ब्रह्मभट्ट को रविवार को हिरासत में ले लिया गया था। फरवाइर में महिला क्राइम ब्रांच की एसीपी को एक व्यापारी द्वारा की गई शिकायत के आधार पर पुलिस ने जांच शुरू की थी। जिसमें पूर्व महिला पुलिस स्टेशन के तत्कालीन पीआई गीता पठान सहित अनेक पुलिस कर्मियों के नाम बाहर आए थे। हनीट्रेप मामले में सभी आरोपी नकली आईडी बनाकर फेसबुक के जरिये लोगों को फ्रेंड रिक्वेस्ट भेजकर उन्हें फंसा कर उन्हें दुष्कर्म और पोकसो एक्ट में फंसा देने की धमकी देकर समाधान करने के लिए भारी रकम की मांग करती थी। 
गीता पठान और उनकी गैंग द्वारा सोशल मिडिया के जरिये लोगों को फंसा कर होटल में लेकर जाती थी। जिसके बाद पुलिस गैंग वहाँ आकर छापा मारती थी। पुलिस द्वारा व्यकित को हिरासत में ले लिया जाता और फिर युवतियाँ पुलिस स्टेशन में आकर उनके साथ सेटलमेंट कर लेती। क्राइम ब्रांच में की गई अब तक की चार शिकायतों के आधार पर अब तक पीआई और उनकी गैंग द्वारा लोगों से 26 लाख रुपए का समाधान किए गये होने की बात सामने आई थी। इस रुपए में 50 प्रतिशत हिस्सा पीआई का रहता था। अहमदाबाद क्राइम ब्रांच द्वारा महिला पीआई के पहले जीतू मोदी, बिपिन परमार, उन्नति उर्फ राधिका राजपूत और जानवी उर्फ जिनल पढ़ियार को हिरासत में लिया गया था। 
इन सभी आरोपियों की पूछताछ में पीआई गीता पठान का नाम खुला था। गीता पठान के अलावा पूर्व महिला पुलिस स्टेशन की पीएसआई जे के ब्रह्मभट्ट तथा महिला हेड कॉन्स्टेबल शादराबेन खांट का भी साथ होने की बात सामने आई थी। जिसके चलते क्राइम ब्रांच की टीम द्वारा इन सभी को भी हिरासत में लीआ गया है। 

इन टॉपिक्स पर और पढ़ें:


ये भी पढ़ें