अहमदाबाद : गेस सिलिंडर के ब्लास्ट होने से तीन मंज़िला मकान में लगी आग

(Photo Credit : etvbharat.com)

एक ही घर में से मिले 20 से अधिक गेस सिलिंडर, रिहायशी मकानों का किया जा रहा था कोमर्शीयल इस्तेमाल

अहमदाबाद शहर के कोट इलाके में आग दुर्घटना की एक बड़ी खबर सामने आई है। शहर में कई रिहायशी मकानों का कोमर्शियल इस्तेमाल किया जा रहा है। हालांकि इसके बावजूद कॉर्पोरेशन चुप होकर बैठा है। इसी बीच शहर के दोशीवाड़ा इलाके में आए एक मकान में देर शाम 7 स 7:15 के बीच अचानक भयंकर ब्लास्ट होने के कारण आग लग गई थी। जिसके चलते आसपास के लोगों में  भी हलचल मच गई थी। 
आग लगने के कारण तुरंत ही दमकल विभाग को फोन करके जानकारी दी गई। जानकारी मिलते ही फायर विभाग के उच्च अधिकारी सहित एक के बाद एक कुल 12 फायर फाइटर तुरंत ही घटना स्थल पर पहुंचे और आग को काबू में लिया। जिस समय दमकल के कर्मचारी घटना स्थल पर पहुंचे, उस समय आग काफी विकराल थी। भयंकर आग में एक व्यक्ति जल भी गया था, इसके चलते उसे नजदीकी अस्पताल में भेजा गया था। 
जिस बिल्डिंग में आग लगी, उसमें तकरीबन 14 लोग काम करते थे। आग लगने के बाद 13 लोग तो सही सलामत बाहर आ गए, पर 45 वर्षीय बनींसुरी पारोही बाहर नहीं निकल पाई थी। इसलिए उसे असारवा सिविल अस्पताल में प्लास्टिक सर्जरी वोर्ड में भर्ती किया गया था। जिस जगह आग लगी वहाँ से दमकल विभाग ने 20 से अधिक गेस सिलिंडर बाहर निकाले थे। आग लगने का मुख्य कारण दो सिलिंडर में हुआ ब्लास्ट था। ऐसे में यदि सभी सिलिंडर फटे होते तो कितना बड़ा नुकसान हो सकता था, उसकी मात्र कल्पना की जा सकती है। 
कालूपुर थाने के पीआई डीजे चुडासमा ने बताया कि पुलिस की ओर से संदेश मिलने के बाद पुलिस की एक गाड़ी मौके पर पहुंची. घटना का पता लगाने के लिए पुलिस द्वारा फिलहाल द्वारा जांच की जा रही है। लेकिन पुलिस आवासीय भवन के व्यावसायिक उपयोग, एक घर में 20 से अधिक सिलेंडर मिलने, अग्नि सुरक्षा जैसे विभिन्न मुद्दों पर भी शिकायत दर्ज कर सकती है। सूत्रों के मुताबिक कुछ सत्ताधारी राजनीतिक दल से जुड़े लोगों के फोन आने के बाद पूरे मामले को दबाया जा रहा है। ऐसे में पुलिस शिकायत दर्ज करने से कतरा रही है।

इन टॉपिक्स पर और पढ़ें:


ये भी पढ़ें