आखिर क्यों इस देश की महिला सैनिकों को भी पहननी पड़ती थी पुरुष सैनिकों जैसी ही अंडरवियर

(Photo Credit : swissinfo.ch)

सेना में महिलाओं का अनुपात बढ़ाने के लिए लिया गया निर्णय

स्विट्ज़रलैंड की सेना में एक बड़ा बदलाव होने जा रहा है। शुरुआत से ही एकदम अजीबोगरीब ढंग से चली आ रही इस व्यवस्था में महिला सैनिकों को भी पुरुष सैनिकों जैसे जेन्ट्स अंडरवियर पहनने पड़ते थे। पर अब इसमें बदलाव होने जा रहा है। 'लोको' मीडिया रिपोर्टस की माने तो इस नए बदलाव के कारण महिलाओं की सेना में भागीदारी बढ़ेगी। 
स्विस आर्मी के प्रवक्ता काज गोनर ने मीडिया से बातचीत करते हुये बताया की मिलिट्री द्वारा जो चीजें उपलब्ध करवाई जाती है। वह काफी आउटडेटेड और पुराने जमाने की है। अब उसमें कुछ मॉडर्न बदलाव की जरूरत है। उन्होंने कहा की इसके पहले आर्मी के कपड़े मात्र और मात्र पुरुष सैनिकों के हिसाब से बनते थे। पर अब उसमें काफी बदलाव किए जाएंगे। गर्मी के लिए शॉर्ट और ठंडी के लिए लॉन्ग अंडरवियर की व्यवस्था की जाएगी। 
इसके अलावा कोम्बेट क्लोधींग, प्रोटेक्टिव वेस्ट और बेकपेक को भी और अच्छा बनाने की कोशिस की जा रही है। उनका पूरा ध्यान फंकशनल यूनिफ़ोर्म पर रहेगा। स्विट्ज़रलैंड की रक्षा मंत्री वायोला एमहर्ड ने भी इस कदम का स्वागत किया है। स्विस इन्फो की रिपोर्ट के अनुसार, 80 के दशक के बाद से अब तक एक ही तरह के कपड़े इस्तेमाल किए जा रहे थे। 
बता दे की स्विस आर्मी में मात्र 1 प्रतिशत महिलाएं है। उन्हें आर्मी में सभी काम पुरुषों की तरह करना पड़ा है। स्विस आर्मी के डिफेंस चीफ को आशा है की महिलाओं के आर्मी में इस बदलाव के कारण यह अनुपात 2030 तक बढ़ जाएगा। 

इन टॉपिक्स पर और पढ़ें:


ये भी पढ़ें