७वां वेतन आयोग: केंद्रीय कर्मचारियों को मिलने जा रही है बड़ी खुशखबरी, पगार में हो सकती है इतनी बढ़ोत्तरी

(Photo Credit : IANS)

कर्मचारियों को सितंबर में मिल सकता है 28 फीसदी की जगह 31 फीसदी महंगाई भत्ता

केंद्रीय कर्मचारियों को सितंबर में 28 फीसदी महंगाई भत्ता मिलना है। लेकिन अब कर्मचारियों के लिए एक और खुशखबरी है। सरकार जल्द ही इसमें जून का महंगाई भत्ता जोड़ सकती है। अगर ऐसा होता है तो केंद्रीय कर्मचारियों को सितंबर में 28 फीसदी की जगह 31 फीसदी महंगाई भत्ता मिलेगा।
आपको बता दें कि जून 2021 का महंगाई भत्ता अभी तय नहीं हुआ है लेकिन एआईसीपीआई के आंकड़ों के मुताबिक यह साफ है कि इसमें 3 फीसदी की बढ़ोतरी होगी। फिलहाल यह पता नहीं चल पाया है कि इसका भुगतान कब तक किया जायेगा। जेसीएम के सचिव शिव गोपाल मिश्रा के मुताबिक जल्द ही इसकी अधिकारिक घोषणा की जाएगी। अगर महंगाई भत्ता 3 फीसदी बढ़ता है तो यह 31 फीसदी हो जाएगा और अगर ऐसा होता है तो केंद्रीय कर्मचारियों का वेतन एक बार फिर बढ़ जाएगा। 
सातवें वेतन आयोग के मैट्रिक्स के मुताबिक, केंद्रीय कर्मचारियों की लेवल-1 सैलरी रेंज 18,000 रुपये से लेकर 56,900 रुपये तक है। यानी केंद्रीय कर्मचारियों का न्यूनतम वेतन 18,000 रुपये है। हम इस आधार पर गणना करते हैं कि सितंबर के महीने में एक कर्मचारी को कितना वेतन मिलेगा।

28 प्रतिशत मुद्रास्फीति भत्ते (महंगाई भत्ता) पर गणना
कर्मचारी का मूल वेतन - 18,000 रुपये
नया मुद्रास्फीति भत्ता (28 प्रतिशत) - 5,040 रुपये प्रति माह
वर्तमान मुद्रास्फीति भत्ता (17%) - रु. 3,060 प्रति माह
कितना बढ़ा महंगाई भत्ता- 1,880 रुपये प्रति माह
वार्षिक वेतन वृद्धि - रु. 1,980 x 12 = रु. 23,760

31 प्रतिशत मुद्रास्फीति भत्ते पर गणना
कर्मचारी का मूल वेतन - 18,000 रुपये
नया मुद्रास्फीति भत्ता (31 प्रतिशत) - 5,580 रुपये प्रति माह
अब तक महंगाई भत्ता (17 फीसदी) - 3,060 रुपये प्रति माह
कितना बढ़ा महंगाई भत्ता- 2,520 रुपये प्रति माह
वार्षिक वेतन वृद्धि - रु. 2,520 x 12 = रु. 30,240

अधिकतम वेतन पर गणना
अब यह कैलकुलेशन लेवल-1 के तहत दिए जाने वाले अधिकतम वेतन पर करें। लेवल-1 पर अधिकतम वेतन 56,900 रुपये है। वहीं 28 फीसदी भत्ते के मुताबिक इस मूल वेतन पर सालाना महंगाई भत्ता 1,71,184 रुपये होगा। हालांकि अगर अंतर की बात करें तो सैलरी में सालाना बढ़ोतरी 75,108 रुपये होगी।

28 प्रतिशत मुद्रास्फीति भत्ते पर गणना
कर्मचारी का मूल वेतन - 56,900 रुपये
नया मुद्रास्फीति भत्ता (28 प्रतिशत) - 15,932 रुपये प्रति माह
वर्तमान मुद्रास्फीति भत्ता (17%) - 9,673 रुपये प्रति माह
कितना महंगाई भत्ता - 6259 रुपये प्रति माह
वार्षिक वेतन वृद्धि - 6259 x 12 = रु 75,108

31 प्रतिशत मुद्रास्फीति भत्ते पर गणना
कर्मचारी का मूल वेतन - 56,900 रुपये
नया मुद्रास्फीति भत्ता (31 प्रतिशत) - 17,639 रुपये प्रति माह
अब तक महंगाई भत्ता (17 फीसदी)- 9,673 रुपये प्रति माह
कितना महंगाई भत्ता - 7,966 रुपये प्रति माह
वार्षिक वेतन वृद्धि - रु. 7,966 x 12 = रु. 98,592

31 फीसदी महंगाई भत्ते के साथ 56,900 रुपये के मूल वेतन पर कुल सालाना महंगाई भत्ता 2,11,668 रुपये होगा। हालांकि अगर गैप की बात करें तो सैलरी में सालाना बढ़ोतरी 95,592 रुपये होगी।

इन टॉपिक्स पर और पढ़ें:


ये भी पढ़ें