अहमदाबाद : चिंतन शिविर का सामूहिक चिंतन जनहितकारी और सुशासन की सच्ची दिशा हैः सीएम

अहमदाबाद : चिंतन शिविर का सामूहिक चिंतन जनहितकारी और सुशासन की सच्ची दिशा हैः सीएम

मुख्यमंत्री ने सहकारिता विभाग के दो दिवसीय चिंतन शिविर का किया उद्घाटन

प्राकृतिक खेती को प्रोत्साहन के लिए किसान सहकारी समितियों को प्रेरित करने का मुख्यमंत्री  भूपेंद्र पटेल का अनुरोध
मुख्यमंत्री  भूपेंद्र पटेल ने कहा कि चिंतन शिविर के माध्यम से होने वाले सामूहिक चिंतन और मनन से जो नवनीत निकलता है वह लोकहितकारी और सुशासन की सच्ची दिशा है। बुधवार को अहमदाबाद के सरदार पटेल लोक प्रशासन संस्थान (स्पीपा) में राज्य के सहकारिता विभाग के दो दिवसीय चिंतन शिविर का वीडियो कॉन्फ्रेंसिंग के जरिए उद्घाटन करते हुए उन्होंने यह बात कही। इस चिंतन शिविर में राज्य के जिला सहकारी रजिस्ट्रार तथा प्रथम एवं द्वितीय श्रेणी के अधिकारी हिस्सा ले रहे हैं। 
मुख्यमंत्री भूपेंद्र पटेल ने कहा कि प्रधानमंत्री  नरेन्द्र मोदी द्वारा दिए गए चिंतन शिविर के सफल दृष्टिकोण में हमें और तेजी लानी है। उन्होंने कहा कि समान हित के लिए एक समान ध्येय के साथ ‘सबका साथ, सबका विकास और सबका विश्वास’ के मंत्र के आधार पर सहकारिता क्षेत्र विकास का अनोखा मॉडल बना है। मुख्यमंत्री ने कहा कि सहकारिता क्षेत्र ग्रामीण अर्थव्यवस्था को काफी नजदीक से छूने वाला क्षेत्र है। यही नहीं, किसान, उद्यमी महिलाएं और छोटे व्यवसायियों के लिए इस क्षेत्र में सफलता के अनेक अवसर मौजूद हैं। उन्होंने आगे कहा कि सहकारी क्षेत्र में ‘रिडिफाइन, रिइन्वेंट और रिफॉर्म’ की प्रधानमंत्री की संकल्पना को साकार करने के लिए गुजरात का सहकारिता विभाग तैयार है। इस संदर्भ में उन्होंने विभाग की विभिन्न सेवाओं को ऑनलाइन बनाने, वेब पोर्टल और स्मार्ट फोन एप्लीकेशन की सुविधा विकसित करने की दिशा में सामूहिक मंथन की जरूरत पर रोशनी डाली। 
मुख्यमंत्री ने वर्तमान कोरोना काल के बाद की स्थिति में आत्मनिर्भरता के लिए ‘मुख्यमंत्री महिला उत्कर्ष योजना’ या ‘गुजरात आत्मनिर्भर सहाय योजना’ के व्यापक कार्यान्वयन में ‘उत्प्रेरक एजेंट’ बनने का अधिकारियों से आह्वान किया। मुख्यमंत्री ने उम्मीद जताई कि प्राकृतिक खेती को प्रोत्साहन देने के लिए किसान सहकारी समितियों को विशेष रूप से प्रेरित करने की दिशा में भी सहकारिता विभाग कार्य करेगा।  
उन्होंने कहा कि प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी के नेतृत्व में आजादी के बाद पहली बार केंद्र सरकार में सहकारिता विभाग का गठन किया गया है। देश के पहले सहकारिता मंत्री भी गुजरात के सपूत श्री अमित शाह हैं, तब राज्य का सहकारिता विभाग केंद्र के साथ समन्वय बनाकर देश में सहकारिता क्षेत्र का विशिष्ट मॉडल बनेगा। मुख्यमंत्री ने कहा कि यह चिंतन शिविर केवल एक कार्यक्रम बनकर न रह जाए, बल्कि आने वाले दिनों में सहकारिता विभाग की नई जनहितकारी और सहयोगी कार्य प्रणाली को ज्यादा मजबूत बनाने वाला रोड मैप बने। 
इस अवसर पर मुख्यमंत्री ने सहकारिता विभाग के वेब पोर्टल को लॉन्च किया। उद्घाटन अवसर पर सहकारिता राज्य मंत्री  जगदीश विश्वकर्मा, राज्य मंत्री  मुकेश पटेल और जीतूभाई चौधरी, मुख्यमंत्री के मुख्य प्रधान सचिव के. कैलाशनाथन और सहकारिता विभाग के सचिव नलिन उपाध्याय मौजूद थे।