शतरंज : एक बार फिर लिटिल ग्रैंड मास्टर प्रज्ञानानंदा ने किया बड़ा कारनामा, पैरासिन ओपन शतरंज टूर्नामेंट 2022 जीता

शतरंज : एक बार फिर लिटिल ग्रैंड मास्टर प्रज्ञानानंदा ने किया बड़ा कारनामा, पैरासिन ओपन शतरंज टूर्नामेंट 2022 जीता

छोटी उम्र में ही ग्रैंड मास्टर प्रज्ञानानंदा ने विश्व शतरंज के दिग्गजों को जोरदार टक्कर दी है और कुछ मुकाबलों में तो धूल भी चटाई है

पिछले कुछ 2-3 साल में शतरंज की दुनिया में एक भारतीय खिलाड़ी आर प्रज्ञानानंदा नाम सबसे तेजी से उभरा है। छोटी उम्र में ही ग्रैंड मास्टर प्रज्ञानानंदा ने विश्व शतरंज के दिग्गजों को जोरदार टक्कर दी है और कुछ मुकाबलों में तो धूल भी चटाई है।  कुछ ही महीनों पहले 16 साल के प्रज्ञानानंदा ने विश्व चैंपियन और नॉर्वे के दिग्गज मैग्नस कार्लसन को हराकर सबकी नजर में आये युवा ग्रैंडमास्टर ने एक और बड़ा कारनामा कर दिखाया। प्रज्ञानानंदा ने शनिवार 16 जुलाई को सर्बिया में पैरासिन ओपन ए शतरंज टूर्नामेंट 2022 का खिताब अपने नाम किया।
आपको बता दें कि नौ दौर के मुकाबले में प्रज्ञानानंगा ने एक भी मैच हारे बिना आठ अंक हासिल किये और आधे अंक की बढ़त के साथ जीत दर्ज की। एलेक्जेंडर प्रेडके 7।5 अंक के साथ दूसरे स्थान पर रहे। अलीशर सुलेमेनोव और भारत के एएल मुथैया ने एक समान सात अंक हासिल किये लेकिन बेहतर टाई-ब्रेक स्कोर के आधार पर कजाकिस्तान के सुलेमेनोव ने तीसरा स्थान हासिल किया।
गौरतलब है कि 2016 में सिर्फ 10 साल, 10 माह और 19 दिन की उम्र में वह विश्व के सबसे युवा इंटरनेशनल मास्टर बनने वाले और चेन्नई में जन्मे प्रज्ञानानंदा ने कम उम्र में ही बड़ी उपलब्धियां हासिल की हैं। 2018 में उन्होंने अपना तीसरा और आखिरी ग्रैंड मास्टर नॉर्म हासिल कर पांचवें सबसे युवा ग्रैंड मास्टर बन गए। उन्होंने सर्गेई कर्जाकिन और विदित गुजराती जैसे अनुभवी खिलाड़ियों पर भी जीत हासिल की है। प्रज्ञानानंदा के करियर की सबसे बड़ी जीत 2022 में आई, जब फरवरी में उन्होंने कई बार के विश्व चैंपियन और मौजूदा दौर के सबसे बड़े शतरंज खिलाड़ी मैग्नस कार्लसन को दो बार शिकस्त दी।
Tags: Sports

Related Posts