दक्षिण गुजरात में रहने वाले उत्तर भारतीयों के लिए नई ट्रेनों की मांग

दक्षिण गुजरात में रहने वाले उत्तर भारतीयों के लिए नई ट्रेनों की मांग

उत्तर भारतीय रेल संघर्ष समिति ने रेल राज्य मंत्री दर्शना जरदोश के सामने रखा प्रस्ताव कुछ नई ट्रेनें और कुछ ट्रेनों के मार्ग में परिवर्तन की मांग

दक्षिण गुजरात देश का प्रमुख औद्योगिक केंद्र है, जिसमें देश भर में 2 मिलियन से अधिक लोग कार्यरत हैं, विशेषकर उत्तर भारत से, जिनके परिवहन का एकमात्र साधन रेल है। लेकिन यात्रियों की संख्या की तुलना में सूरत से उत्तर भारत के लिए ट्रेनों की संख्या लगभग नगण्य है, जिससे यात्रियों को भेड़ और बकरियों की तरह यात्रा करने के लिए मजबूर होना पड़ता है। रेल व्यवस्था भी इस तथ्य से भली-भांति परिचित है।  ऐसे में उत्तर भारतीय रेलवे संघर्ष समिति ने सूरत शहर सहित दक्षिण गुजरात में रहने वाले उत्तर भारतीयों की एक बड़ी संख्या के लिए ट्रेन की सुविधा बढ़ाने के लिए रेल राज्य मंत्री को एक प्रस्ताव प्रस्तुत किया था।
बता दें कि उत्तर भारत की रेल समस्या के लिए गठित उत्तर भारतीय रेल संघर्ष समिति पिछले तीन वर्षों से संघर्ष कर रही है। रेलवे अधिकारियों ने आश्वासन दिया था कि उधाना-जलगांव ट्रैक को दोगुना करने के बाद नई ट्रेनें चलाई जाएंगी। लेकिन इस दौरान प्रशासन के अनुरोध पर कोविड महामारी फैलने के कारण आंदोलन स्थगित कर दिया गया। केंद्रीय रेल राज्य मंत्री दर्शना जरदोश से आमने-सामने मुलाकात की गई और समाधान का आश्वासन देते हुए मांगों का पत्र पेश किया गया।
उत्तर भारतीय रेलवे संघर्ष समिति ने जिन ट्रेनों की मांग की हैं उनमें सूरत से अयोध्या, सूरत से पटना और सूरत से वाया भुसावल, रांची के लिए नई ट्रेन है। इसके अलावा उत्तर भारतीय रेलवे संघर्ष समिति ने मांग की है कि 09175 मुंबई सेंट्रल भागलपुर स्पेशल ट्रेन, 19063 उधना-दानापुर एक्सप्रेस, 19051 श्रमिक एक्सप्रेस और 19053 सूरत-मुजफ्फरपुर एक्सप्रेस को प्रतिदिन किया जाये और 11104 बांद्रा झांसी एक्सप्रेस मार्ग को बांद्रा से गोरखपुर तक बढ़ाया जाए।
Tags: Gujarat

Related Posts