भूकंप के 3 साल बाद खुला नेपाल का कृष्ण मंदिर


Image credit : Youtube

नई दिल्ली। नेपाल में साल 2015 में आए भीषण भूकंप के तीन साल बाद यहां के ललितपुर स्थित प्रसिद्ध कृष्ण मंदिर रविवार को लोगों के लिए दोबारा खोल दिया गया। भारतीय शिखर शैली में निर्मित यह मंदिर 25 अप्रैल 2015 को 7.8 तीव्रता का भूकंप आने से आंशिक रूप से क्षतिग्रस्त हो गया था। इसके बाद मरम्मत के लिए इसे बंद कर दिया गया था। इस भूकंप में 8,700 लोगों की मौत हो गई थी और हजारों घर ध्वस्त या क्षतिग्रस्त हो गए थे। सांस्कृतिक विरासत स्थलों को भी काफी नुकसान पहुंचा था।

रविवार तड़के काठमांडू के ललितपुर नगर निकाय स्थित कृष्ण मंदिर को खोले जाने के बाद हजारों श्रद्धालुओं ने वहां पूजा-अर्चना की। पत्थर से बने इस मंदिर की मरम्मत का कार्य हाल में पूरा किया गया। फिर दोबारा खोले जाने के लिए इसे विभिन्न रंगों की पताकाओं और रोशनी से सजाया गया। मंदिर का निर्माण 17वीं शताब्दी में सिद्धि नरसिंह मल्ल ने कराया था। तीन मंजिला में 21 शिखर हैं। पहली मंजिल में पत्थरों पर महाभारत से जुड़ी घटनाएं उकेरी गई हैं, दूसरी मंजिल में रामायण के दृश्य हैं। इस मंदिर के बारे में किंवदंती है कि मल्ल राजा सिद्धि नरसिंह को सपने में कृष्ण और राधा ने मंदिर बनाने का निर्देश दिया था।