पेन्टेगोन को पता नहीं, तो किसने गिने पाकिस्तान के F-16 विमान?


Photo/Twitter

पुलवामा आतंकी हमले के जवाब में भारत ने पाकिस्तान में घूस कर आतंकी ठिकाने ध्वस्त किये थे। खिसयानी बिल्ली खंभा नोचे की तर्ज पर पाकिस्तान ने भारत पर जवाबी कार्रवाई करने की कोशिश की लेकिन भारतीय वायु सेना की त्वरित कार्रवाई में पाकिसतान का F-16 लड़ाकू विमान मार गिराया गया। हालांकि पाकिस्तान ने अंतरर्राष्ट्रीय स्तर पर अपनी छवि बचाने के लिये दावा किया कि उसने F-16 लड़ाकू विमान का उपयोग किया ही नहीं था। जवाब में भारत ने सबूत भी दिये। इसके बाद यह एक बहस का मुद्दा बन गया।

अब पिछले दिनों एक अमेरिकी फोरेन पोलिसी जरनल की रिपोर्ट आई जिसमें कहा गया कि अमेरिका ने पाकिस्तान जाकर उसके F-16 लड़ाकू विमानों की बाकायदा गिनती करके ऑडिट किया है और कोई भी विमान लापता नहीं पाया गया। इस दुविधापूर्ण स्थिति में भारत अपने दावे पर अडिग रहा। अब यह रिपोर्ट आई है कि अमेरिकी रक्षा संस्थान पेन्टागोन ने स्पष्ट किया है कि उसकी ओर से पाकिस्तान में F-16 लड़ाकू विमानों का कोई ऑडिट नहीं किया गया है, कोई गिनती नहीं की गई है।

इस घटनाक्रम से जहां भारत के दावे को बल मिला है, वहीं यह प्रश्ना भी खड़ा हुआ है कि आखिर F-16 लड़ाकू विमानों की गिनती की खबर कहां से आई। यदि अमेरिकी जरनल ने ऐसी रिपोर्ट पिछले हफ्ते दी थी तो उसके पीछे की मंशा क्या रही होगी।

जानकारों का मानना है कि F-16 लड़ाकू विमान हथियारों के अंतरर्राष्ट्रीय बाजार में एक बड़ा ब्रांड है। ऐसे में यदि यह स्पष्ट हो जाता है कि भारत ने पुराने मिग-२१ विमान से F-16 लड़ाकू विमान को मार गिराया, तो अमेरिका के लिये यह एक बड़ा झटका होगा। शायद इसी मसले को छिपाने के लिये उक्त बात फैलाई गई कि पाकिस्तान के पास जितने F-16 लड़ाकू विमान थे उसमें कोई लापता नहीं है।

एक दूसरी संभावना यह व्यक्त की जा रही है कि पाकिस्तान के अलावा F-16 लड़ाकू विमान का उपयोग करने वाले अन्य कई देश हैं, जिनमें से कुछेक के पाकिस्तान के साथ अच्छे सैनिक रिश्ते हैं जिनमें मिस्र, जोर्डन और तुर्की प्रमुख हैं। कई बार देखा गया है कि ये देश अपने-अपने विमानों का सैनिक अभ्यासों व अन्य प्रकार से उपयोग किया करते हैं। हो सकता है अन्य किसी देश का विमान पाकिस्तान द्वारा उपयोग में लाया गया हो, और वह ही भारत ने मार गिराया हो।

खैर, संभावना कई हो सकती हैं। लेकिन स्वयं पेन्टागोन द्वारा यह साफ कर दिये जाने के बाद कि हमने पाकिस्तान में विमानों की कोई गिनती नहीं की है, भारत का दावा पुख्ता हो गया है।