हर तीसरी महिला है जापान में यौन उत्पीडन का शिकार


तोक्यो। जापान में हुए एक अध्ययन में सामने आया है कि देश में काम करने वाली लगभग हर तीसरी कामकाजी महिला कार्यस्थल पर यौन उत्पीडन का शिकार होती है जापान सरकार द्वारा कराए गए इस अध्ययन में यौन उत्पीडन का शिकार हुई महिलाओं को आमतौर पर अवांछित रूप से छूने या अपमानजनक बातों का सामना करना पड़ता है। यह अपने तरह का पहला अध्ययन है जो आज जारी किया गया। इस अध्ययन में गलती की गुंजाइश ना के बराबर है क्योंकि इसके लिए लगभग ९६०० कामकाजी महिलाओं ने मेल या ऑनलाइन के जरिए अपनी प्रतिक्रियाएं दी हैं। इस सर्वे पर प्रतिक्रिया देने की दर १८ प्रतिशत रही है। प्रतिक्रिया देने वालों में २९ प्रतिशत ने कहा कि उन्हें यौन प्रताड़ना झेलनी पड़ी है। इनमें प्रताड़ित करने का सबसे आम तरीका उनकी उम्र या उनकी शारीरिक बनावट के बारे में चर्चा करना या फाqब्तयां कसना है। इस बात से इस सर्वेक्षण में प्रतिक्रिया करने वाली ५४ फीसदी महिलाएं इत्तेफाक रखती हैं। इसके अलावा प्रतिक्रिया देने वाली ४० प्रतिशत महिलाओं का मानना है कि उन्हें अवांछित तरीके से छूकर प्रताड़ित किया जाता है, वहीं ३८ प्रतिशत महिलाओं का मानना है कि उन्हें सेक्स से संबंधित प्रश्नों का सामना करना पड़ता है। अध्ययन में २७ प्रतिशत महिलाओं ने कहा कि उन्हें खाने पर या डेट पर ले जाने की बात करके भी प्रताड़ित किया जाता है।