सैंडर्स पर हिलेरी ने राजनीतिक खेल खेलने का लगाया आरोप


वािंशगटन। राष्ट्रपति पद की डेमोव्रेâटिक पार्टी से उम्मीदवार हिलेरी िंक्लटन ने अपने प्रतिद्वंद्वी बर्नी सैंडर्स पर राजनीतिक चाल चलने का आरोप लगाया है। सैंडर्स और उनके सहयोगियों ने न्यूयॉर्वâ में अतिरिक्त डेमोव्रेâटिक बहस के लिए तीन संभावित तिथियों को खारिज कर दिया था।
जानकारी के अनुसार हिलेरी िंक्लटन के प्रेस सचिव ब्रायन फालन ने शनिवार को कहा, गत सप्ताह हम लोगों ने न्यूयार्वâ में बहस के लिए सैंडर्स को तीन तारीखें भेजीं, लेकिन उन्होंने सभी को खारिज कर दिया। सैंडर्स के चुनाव अभियान को इस तरह का खेल खेलने से बाज आना चाहिए। फालन ने कहा कि हिलेरी के प्रचार अभियान की ओर से बहस के लिए सैंडर्स को सोमवार ७.३० बजे और गुरुवार के दिन प्रस्तावित किए गए थे और एबीसी न्यूज टीवी के ‘गुड मर्ॉिनग अमेरिका’ कार्यक्रम में बहस के लिए शुक्रवार की तिथि का प्रस्ताव किया गया था। सैंडर्स के प्रचार प्रबंधकों ने निर्धारित तिथि और समय पर कार्यक्रम में शामिल होने के लिए हस्ताक्षर किया था। फिर भी उन लोगों ने कार्यक्रम रद्द कर दिया।
न्यूज चैनल का कहना है कि सैंडर्स और उनकी टीम को देर नहीं करना चाहिए और बहस के लिए १४ अप्रैल या १५ अप्रैल की सुबह का समय स्वीकार कर लेना चाहिए। सैंडर्स के प्रचार प्रबंधकों ने नेशनल कॉलेजिएट एथलेटिक एसोसिएशन (एनसीएए) की फाइनल प्रतियोगिता के मद्देनजर सोमवार को प्रस्तावित बहस की तिथि को रद्द कर दिया था। सैंडर्स के चुनाव प्रचार अभियान के प्रवक्ता मिशेल ब्रिग्स ने कहा, ठदुर्भाग्यवश हिलेरी िंक्लटन की ओर से बहस के लिए जिस तिथि और स्थल का प्रस्ताव किया गया है उसका कोई अर्थ नहीं है। सोमवार रात को वे न्यूयॉर्वâ में बहस चाहते थे, लेकिन उस समय एनसीएए का फाइनल मैच था। उस समय बहस करने का मतलब मजाक का विषय बनना था।
सैंडर्स के प्रचारकों ने कहा कि बहस के लिए अन्य तिथि िंक्लटन के पास भेजी गई जिसे उन्होंने खारिज कर दिया है।
दरअसल गत सप्ताह से डेमोव्रेâटिक बहस के कार्यक्रमों का आगे पीछे होना तब शुरू हुआ जब सैंडर्स ने न्यूयार्वâ में १९ अप्रैल को प्राइमरी चुनाव से पहले ब्रुकलिन में हिलेरी को बहस के लिए न्योता दिया था। जनवरी में सैंडर्स समेत डेमोव्रेâटिक पार्टी के अधिकांश लोगों ने बहस के कम कार्यक्रमों की आलोचना की थी। इसके बाद हिलेरी और सैंडर्स के प्रचार प्रबंधक चार अतिरिक्त बहसों के लिए राजी हुए थे।