सीरियाई सेना ने आईएस से पल्मायरा के निकट क्षेत्र छीना


दमिश्क। प्रतिबंधित संगठन आईएसआईएस से युद्ध के बाद सीरियाई सेना ने पल्मायरा के नजदीक का क्षे़त्र छीन लिया। इसके लिए सेना को युद्ध लड़ना पड़ा। यह क्षेत्र मध्य प्रांत होम्स में प्राचीन शहर पल्मायरा के निकट है। यह आईएस के गढ़ माने जाने वाले प्रमुख शहरों में से एक था।
जानकारी के अनुसार रूसी लड़ावूâ विमानों के सहयोग से सीरियाई सेना ने करयातेन शहर पर कई दिशाओं से हमला किया। शहर के पूर्वी भाग पर सीरियाई सेना ने एक दिन पहले कदम रखा था। सैन्य सूत्रों के अनुसार बम निरोधक दस्ते ने पहले सेना के प्रवेश को सुलभ बनाने के लिए आईएस के आतंकियों द्वारा शहर में लगाए गए विस्फोटक उपकरणों को निाqष्क्रय किया। इसके बाद सेना शहर में प्रवेश कर गई। सेना ने शनिवार को ईसाई बहुल इस शहर के पाqश्चमी भाग पर बड़े पैमाने पर हमला किया जिससे आईएस का सुरक्षा घेरा टूट गया। सूत्रों के अनुसार रूसी लड़ावूâ विमानों ने करयातेन पर कब्जा दिलाने में अहम भूमिका अदा की। पल्मायरा पर कब्जा करने के बाद करयातेन फतह करने में सीरियाई सेना को एक सप्ताह से भी कम समय लगा। करयातेन पर विगत दस महीने से आईएस का कब्जा था। सीरियाई वायु सेना ने करयातेन के पूर्वी और दक्षिणी भाग में आईएस के ठिकानों को तबाह कर दिया।
लेबनानी सीमा के निकट और दमिश्क के उत्तर में कलमोन पहाड़ी इलाके में करयातेन आईस का अंतिम गढ़ है। पल्मायरा पर सेना के कब्जे के बाद आईएस के लड़ाके करयातेन में छिपे हुए हैं। करयातेन शहर रणनीतिक रूप से इसलिए महत्वपूर्ण है कि यह कारा शहर के काफी निकट है। कारा शिया संगठन हिजबुल्ला का गढ़ माना जाता है। हिजबुल्ला सीरियाई सेना के साथ आईएस के खिलाफ लड़ रहा है।