संयुक्त राष्ट्र के मानवाधिकार प्रस्ताव को अवैध बताया उत्तर कोरिया ने


संयुक्त राष्ट्र । उत्तर कोरिया का मानना है कि संयुक्त राष्ट्र में देश के मानवाधिकार रिकार्ड को निशाना बनाकर लाया गया प्रस्ताव अवैध और झूठ पर आधारित है। उसकी मांग है कि संयुक्त राष्ट्र महासचिव सदस्य देशों को इस बारे में अवगत कराएं। उत्तर कोरिया के विदेश मंत्री री सू योंग ने एक पत्र में कहा है कि अगर यह प्रस्ताव वापस ले लिया जाता है तो उत्तर कोरिया मानवाधिकार के क्षेत्र में वार्ता और सहयोग में खुद को सक्रिय रूप से शामिल करने का इच्छुक होगा।
संयुक्त राष्ट्र महासचिव बान की मून के प्रवक्ता और यूरोपीय संघ ने इस पत्र पर कोई टिप्पणी नहीं की है।
उल्लेखनीय है कि उत्तर कोरिया उस समय बहुत आक्रोशित हुआ था जब पिछले साल संयुक्त राष्ट्र महासभा ने एक प्रस्ताव को मंजूरी दी थी जिसमें कहा गया था कि देश के मानवाधिकार की ाqस्थति को अंतरराष्ट्रीय अपराध न्यायालय को भेजा जाना चाहिए और नेता किम जोंग उन को भी जवाबदेह ठहराया जा सकता है। उत्तर कोरिया के एक प्रमुख असंतुष्ट नेता ने पिछले महीने कहा था कि उसने मानवाधिकार मामले में अपनी गवाही में महत्वपूर्ण बदलाव किया है।