विश्वविद्यालय का प्रो. निकला पॉर्न स्टार


लंदन। २५ सालों से मैनचेस्टर विश्वविद्यालय में केमिकल इंजीनियिंरग के बच्चों को पढ़ा रहे प्रोपेâसर निकोलस गोडार्ड के बारे में चौकाने वाला खुलासा हुआ है। ६१ वर्षीय निकोलस के बारे में पता चला है कि वे विश्वविद्याल में पढ़ाने के साथ ही पॉर्न फिल्मों में भी काम कर रहे थे। चोरी छिपे किए जा रहे प्रोपेâसर निकोलस गोडार्ड के इस काम के बारे में खुलासा होने के बाद सहकर्मी से लेकर छात्र तक सभी अचंभित हो उठे हैं। निकोलस ने पॉर्न फिल्मों में काम करने की वजह पत्नी से हुए तलाक को बताया है। निकोलस ने बताया, ‘कुछ महीनें पहले मेरा मेरी पत्नी से तलाक हो गया था। इसके बाद काफी दिनों तक परेशान और गम में रहने के बाद मैंने पॉर्न फिल्मों में जाने का निर्णय किया।’ उन्होंने बताया कि विश्वविद्यालय से अनुमति न होने की वजह से यह बात सभी से छिपाई। तकरीबन ३५ साल के अपने अकादमिक करियर में निकोलस ने कई बड़ी उपलाqब्धयां हासिल की हैं। उन्होंने तकरीबन एक दर्जन से अधिक रिसर्च पेपर भी प्रकाशित किए हैं। वे विश्वविद्यालय में तीन विषयों को पढ़ाते हैं। पॉर्न फिल्मों में काम करने की वजह निकोलस को विश्वविद्यालय प्रबंधन से कम वेतन मिलना भी बताई जा रही है। उन्होंने कहा कि मेरी िंजदगी में कई खर्चे हैं और इन्हीं खर्चों को पूरा करने के लिए पॉर्न फिल्मों में काम करता था। अपने पैâसले पर अफसोस जताते हुए निकोलस ने माना है कि उनका पॉर्न फिल्मों में काम करने का निर्णय सही नहीं था। हालांकि प्रोपेâसर निकोलस ने बीते जनवरी में ही एडल्ट फिल्मों में काम छोड़ देने की बात कही है।