वाईफाई के लिए सेक्स और शराब छोड़ने को तैयार लोग


न्यूयॉर्वâ। तकनीक ने िंजदगी को आसान बनाया है लेकिन अब यही तकनीक लोगों की िंजदगी को बर्बाद करती जा रही है। स्मार्टफोन और इंटरनेट ने इंसानों को भीड़ में भी अकेला कर दिया है। इसका नशा इस कदर चढ़ा हुआ है लोग एक महीने के वाईफाई के लिए शराब और सेक्स तक छोड़ने को तैयार हो गए हैं।
हाल ही में अमेरिका में हुई एक स्टडी के अनुसार लोगों के सिर पर तकनीक का नशा ऐसा चढ़ा हुआ है कि वो अपनी िंजदगी के कई महत्वपूर्ण पलों को खो चुके हैं वहीं कईयों ने तो पूरे परिवार का वक्त खराब करने में कोई कसर नहीं छोड़ी। इंट्रीपीड ट्रेवल द्वारा हाल ही में अमेरिका के १५०० लोगों पर की गई स्टडी में यह बात सामने आई की औसत युवा लोग अपने फोन के बिना १६ घंटे भी नहीं रह सकते।
२४ प्रतिशत ऐसे थे जिन्हें मोबाइल में डूबे होने की वजह से हादसों का शिकार होना पड़ा। इनमें से कई का मानना है कि उनका मोबाइल कभी भी उनसे ३ फीट से ज्यादा दूर नहीं होता। सर्वे में शामिल एक तिहाई लोगों के अनुसार वो जरूरत से ज्यादा वक्त अपने मोबाइल, लेपटॉप या टैबलेट पर गुजारते हैं।
४१ प्रतिशत लोगों का मानना है उन्होंने विशेष कार्यक्रम या जगह का चुनाव सिर्पâ इसलिए किया क्योंकि सोशल मीडिया के लिए उनकी तस्वीरें बेहतर होंगी। एक महिला ने तो यहां तक कहा कि वो रात को साते वक्त भी अपना आईपैड साथ लेकर सोती हैं और एक सुबह तो उनके पति इसी पर सोए मिले। जब उन्होंने देखा तो उसमें उनके पति के प्रायवेट पार्ट की तस्वीरें आ गर्इं थीं।
कुछ ऐसे थे जिन्होंने मोबाइल के चलते अपना पैर तुड़वा लिया और पूरे परिवार की छूट्टी बर्बाद कर दी। ४७ प्रतिशत ने माना कि वो अपने मोबाइल के बिना छुट्टियों पर नहीं जाते और जहां जाते हैं वहां पहुंचते ही नेटवर्वâ तलाशने लग जाते हैं।
स्टडी के दौरान जब उनसे पूछा गया कि अगर उन्हें एक महीने के लिए वाईफाई दिया जाए तो वो अपनी कोई सबसे प्यारी चीज छोड़ देंगे तो इसके लिए सभी तैयार हो गए। इस सवाल के जवाब में सबसे ज्यादा ३७ प्रतिशत लोगों ने कहा कि वो शराब छोड़ देंगे वहीं ३४ प्रतिशत ने कहा कि वो जंक पूâड छोड़ने को तैयार हैं। २४ प्रतिशत ने कहा कि वो कॉफी छोड़ देंगे जबकि २१ प्रतिशत सेक्स छोड़ने के लिए भी तैयार हो गए। १० प्रतिशत तो ऐसे थे जिन्हें अपने दोस्तों को छोड़ने में भी कोई गुरेज नहीं था।