लेखक रॉय के हत्यारों की गिरफ्तारी की मांग, बांग्लादेश में प्रदर्शन


ढाका । बांग्लादेश मूल के अमेरिकी लेखक और ब्लॉगर अविजित रॉय को रविवार को लोगों ने अंतिम श्रद्धांजलि दी। रॉय के हत्यारों को गिरफ्तार करने और त्वरित सुनवाई की मांग को लेकर लोगों ने प्रदर्शन भी किया। रॉय की ढाका में सप्ताह के प्रारंभ में हत्या कर दी गई थी। गुरुवार की रात रॉय और उनकी पत्नी राफिदा अहमद बन्ना को दो अज्ञात हत्यारों ने शिक्षक-छात्र सेंटर (टीएससी) चौराहे पर साइकिल रिक्शा से खींच कर उतार लिया और धारदार हथियारों से उन पर हमला किया। सिर में बुरी तरह चोट लगने से रॉय की मौत हो गई जबकि उनकी पत्नी राफिदा अहमद बन्ना गंभीर रूप से घायल हो गई। सूत्रों के मुताबिक, रॉय का शव रविवार दोपहर उसी घटनास्थल के पास पुâटपाथ तक लाया गया जहां उन पर बुरी तरह हमला किया गया था। लोगों ने लेखक को श्रद्धांजलि दी और वहीं प्रदर्शन भी किया। उन्हें श्रद्धांजलि देने के लिए अपराजेयो बांग्ला ढाका विश्वविद्यालय के सामने एक मंच बनाया गया था। लोगों ने नारे लगाए और हत्यारों को गिरफ्तार करने और त्वरित कार्रवाई की मांग की। आधे घंटे तक चले प्रदर्शन के बाद उनके शव को सद्धेश्वरबारी ाqस्थत उनके पिता अजय रॉय के घर तक पहुंचाया गया। अंतत: उनके शव को डीएमसीएच शवगृह तक पहुंचा दिया गया। उनके परिवार ने उनके शव को चिकित्सकीय अनुसंधान के लिए मेडिकल कॉलेज को सौंपने का पैâसला लिया।लेखक के प्रति सम्मान जताने के लिए श्रद्धांजलि का आयोजन साqम्मलितो संग्स्कृतिक जोते ने किया था। रॉय सांप्रदायिकता के खिलाफ लिखने के लिए जाने जाते थे। २६ फरवरी को रॉय और उनकी पत्नी को पुâटपाथ पर घसीटकर लाया गया था और उनकी पिटाई की गई थी। घटनास्थल सुहारावर्दी उद्यान से सटा है और अत्यंत सुरक्षित अमर एकुशय पुस्तक मेले और शाहबाग थाने से कुछ ही दूरी पर ाqस्थत है।
रॉय ने डीएमसीएच में आखिरी सांसें ली और गंभीर रूप से घायल उनकी पत्नी का इलाज स्क्वायर अस्पताल में चल रहा है।