राजपक्षे की हार में भारतीय एजेंट की भूमिका पर निर्वासन


कोलंबो । श्रीलंका ने पूर्व राष्ट्रपति राजपक्षे की हार में भारतीय एजेंट की भूमिका की खबरों के आधार पर कोलंबो में तैनात भारतीय जासूसी एजेंसी के प्रमुख को निर्वासित कर दिया है। बताया जा रहा है कि श्रीलंका ने यह कदम उन खबरों के बाद उठाया है जिसमें कहा गया है कि भारतीय एजेंसी ने पूर्व राष्ट्रपति मिंहदा राजपक्षे की हार में भूमिका निभाई थी। नईदिल्ली और कोलंबो के तमाम सूत्रों का कहना है कि राजपक्षे के विरोध में एकजुट मैथरीपाल सिरिसेना के पक्ष में समर्थन जुटाने के आरोप के चलते दिसंबर में ही भारत से कहा गया था कि वह अपने एजेंट को भारत वापस बुला सके। इसके साथ ही श्रीलंका के एक अखबार में लिखा गया कि राजपक्षे का विरोध करने के चलते रॉ के अधिकारी को अपनी नौकरी से हाथ धोना पड़ा।
उल्लेखनीय है कि दो बार के राष्ट्रपति राजपक्षे के बारे में यह भी कहा जा रहा था कि चीन से करीबी नीतियों के चलते श्रीलंका में उनके खिलाफ माहौल बन रहा है। भारतीय अधिकारियों का कहना है कि रॉ अधिकारी को इसलिए वापस बुलाया गया कि उस पर तत्कालीन राष्ट्रपति मिंहदा राजपक्षे के विरोध में मीिंटग आयोजित कराने का आरोप लगा था। इस पूरे मामले में राजपक्षे की ओर से कहा जा रहा कि वह जब इस मामले में कुछ नहीं बोलेंगे जब तक तथ्य सामने नहीं आ जाते।
उल्लेखनीय है कि पिछले वर्ष श्रीलंका ने दो चीनी पनडुाqब्बयों को अपने तट पर रुकने दिया था। इस घटना के बारे में उसने भारत को पूर्व सूचित नहीं किया जबकि श्रीलंका की भारत के साथ ऐसी संधि है। नए राष्ट्रपति सीरिसेना ने कहा है कि वह अपने पहले विदेश दौरे के लिए भारत जाएंगे। ऐसा माना जा रहा है कि सिरीसेना, भारत से संबंधों को लेकर काफी सक्रिय हैं।