रहने हेतु 10 देश ही सुरक्षित और सबसे शांत


वॉिंशगटन। दुनिया बेहद खतरनाक होती जा रही है और अब दुनिया में सिर्पâ १० देश ही ऐसे बचे हैं, जहां कोई लड़ाई नहीं चल रही है। १०वीं र्वािषक ग्लोबल पीस इंडेक्स में यह बात कही गई है। सबसे खतरनाक संघर्ष मध्य एशिया में चल रहा है, जहां शरर्णािथयों के संकट का कोई हल नहीं दिख रहा है। यहां के देशों में बड़ी आतंकी घटनाएं देखने को मिली हैं। साल २०१५ की तुलना में साल २०१६ में दुनिया में अशांति बढ़ी है। ऐसे में दुनिया में चुिंनदा देश ही बचे हैं, जिन्हें सही मायने में शांतिपूर्ण देश माना जा सकता है। दूसरे शब्दों में कहें तो ये ऐसे देश हैं, जो देश के अंदर या बाहर किसी संघर्ष में शामिल नहीं हैं। इंस्टीटयूट ऑफ इकोनॉमिक्स एंड पीस के अनुसार, सिर्पâ बोत्सवाना, चिली, कोस्टा रिका, जापान, मॉरीशस, पनामा, कतर, ाqस्वटजरलैंड, उरुग्वे और वियतनाम पूरी तरह संघर्ष से बाहर हैं। यह िंथक टैंक पिछले १० साल से ग्लोबल पीस इंडेक्स तैयार कर रहा है। ब्राजील एक ऐसा देश है, जिसे इस सूची से बाहर कर दिया गया है। यह ऐसा देश है, जिसकी हालत दिनों-दिन खराब होती जा रही है। रियो ओिंलपिक के पहले यहां गंभीर खतरे की िंचता है। इस सूची में बताया गया है कि ८१ देश पिछले साल अधिक शांत रहे, जबकि ७९ देशों में ाqस्थति खराब हो गई। इस सूची में आइसलैंड को दुनिया के सबसे शांत देशों में शामिल किया गया है। इसके बाद डेनमार्वâ, ऑाqस्ट्रया, न्यूजीलैंड्स और पुर्तगाल का नंबर आता है। सीरिया का नाम एक बार फिर से सबसे अशांत देश के रूप में शामिल किया गया है।