मिसाइल तैनात कर चीन ने दिया ओबामा को जवाब


वाशिगटन। चीन की सेना ने दक्षिण चीन सागर में जमीन से आकाश में मार करने वाली आधुनिक मिसाइल प्रणाली तैनात की है। वह भी तब जब बराक ओबामा ने चीन को दक्षिण चीन सागर में तनाव कम करने को कहा था। ओबामा ने अमेरिका-आसियान शिखर सम्मेलन के नेताओं को संबोधित करते हुए दक्षिण चीन सागर में चीनी निर्माण के लिए उसे चेतावनी दी तो दूसरी तरफ ताइवान ने बताया कि चीन ने दक्षिण चीन सागर में मिसाइलों की तैनाती कर दी है। चीन ने दक्षिण चीन सागर में पार्सेल चेन के एक द्वीप में जमीन से हवा में दागी जाने वाली मिसाइल की तैनाती कर दी है।
अमेरिकी राष्ट्रपति बराक ओबामा ने वैâलिर्फोिनया के सन्नीलैंड्स में दो दिवसीय अमेरिका-आसियान शिखर सम्मेलन के समापन पर संवाददाताओं को संबोधित करते हुए अपने भाषण में दक्षिण चीन सागर में तनाव कम करने चीन को किसी भी तरह के नए निर्माण और सैन्यीकरण को तत्काल रोकने का आह्वान करते हुए चेतावनी देते हुए कहा था कि अमेरिका उन सभी क्षेत्रों में उड़ान भरेगा, नौकाएं चलाएगा और संचालन करेगा जहां अंतरराष्ट्रीय कानून उसे ऐसा करने की अनुमति देता है और वह ऐसा करने के सभी देशों के अधिकारों की रक्षा करेगा। खास बात यह रही कि ओबामा ने सांकेतिक भाषा का इस्तेमाल करते हुए सीधे तौर चीन का नाम कहीं नहीं लिया। उन्होंने कहा, `हम अपने सहयोगियों और साझीदारों की मदद करते रहेंगे ताकि वे अपनी समुद्री क्षमताओं को मजबूत कर सवेंâ।
ओबामा की चेतावनी के बावजूद ताजी रिपोर्ट के मुताबिक दक्षिण चीन सागर में ाqस्थत वूडी द्वीप में चीनी सेना की रडार प्रणाली और जमीन से आकाश में मार करने वाली आठ मिसाइलों के दो बेड़े नजर आ रहे हैं। वूडी द्वीप पर ताइवान और वियतनाम ने भी अपना दावा कर रखा है। अमेरिकी रक्षा मंत्रालय के मुख्यालय पेंटागन के एक प्रवक्ता बिल अरबन ने कहा, “खुफिया मामला होने के कारण हम इस पर कोई टिप्प्णी नहीं कर सकते। हम इस मामले पर बहुत करीब से नजर रखे हुए हैं।” यह रिपोर्ट ऐसे समय आई है जब अमेरिकी राष्ट्रपति बराक ओबामा और दक्षिण पूर्वी एशियाई देशों के संगठन (आसियान) के नेताओं के बीच अमेरिका के वैâलिर्फोिनया में एक सम्मेलन का समापन हुआ है।