मलेशिया में सात हजार हिन्दू बने मुसलमान


कुआलालंपुर। मलेशिया में सात हजार िंहदुओं की र्धािमक पहचान अब मुस्लिम होने का मामला सामने आया है। राष्ट्रीय पहचान पत्र में इन् ालोगों को मुसलमान बताया गया है। शरई अदालत की अनुमति के बिना पीड़ित अपनी र्धािमक पहचान को सही नहीं करवा सकते हैं। मलेशिया िंहदू संगम के अध्यक्ष मोहन शान के मुताबिक पूरे देश से इस तरह के मामले सामने आए हैं। ज्यादातर पीड़ित निम्न आय वर्ग के हैं। कुछ की पहचान सरकारी अधिकारियों की गलती से बदली है। वहीं, कइयों की गलत पहचान उनके माता-पिता ने ही जानबूझकर दर्ज कराई है। ऐसे बच्चों के माता-पिता पहले ही इस्लाम कुबूल कर चुके हैं। आठ गैर सरकारी िंहदू संगठनों ने इसकी जांच के लिए एक संयुक्त जांच दल बनाया था। जांच दल ने ऐसे पांच सौ मामलों की पड़ताल कर चुकी है। इसके अनुसार पूरे देश में इस सरकारी लापरवाही के करीब सात हजार िंहदू शिकार हुए हैं।
मामला सामने आने के बाद मुाqस्लम वकीलों के संगठनों ने कहा है कि यदि कोई िंहदु इस गलती को सही करवाना चाहता है तो वे उनकी मदद को तैयार हैं। मलेशिया में िंहदु बच्चों के पालन-पोषण का अधिकार हासिल करने के लिए इस तरह की गड़बड़ी के पहले भी कई मामले सामने आ चुके हैं।
अमेरिका के वैâलिर्फोिनया इरविन यूनिर्विसटी में िंहदू और भारत अध्ययन वेंâद्र के भविष्य पर भी सवाल खड़ा हो गया है। निर्माण के लिए मिले तीस लाख डॉलर का अनुदान यूनिर्विसटी ने वापस कर दिया है। संकाय सदस्यों और कुछ छात्रों ने अनुदान देने वालों पर चरमपंथी विचारधारा से प्रभावित होने का आरोप लगाया था। इसके बाद यूनिवर्सिटी ने अनुदान लौटाने का पैâसला किया गया।