भारत व चीन की उत्सर्जित कार्बन से अमरीकी पहल निष्फल : रूबियो


-जलवायु परिवर्तन से चिंतित रिपाqब्लकन पार्टी के राष्ट्रपति उम्मीदवार
वािंशगटन । अमेरिकी राष्ट्रपति चुनाव में रिपाqब्लकन पार्टी के उम्मीदवारी के दावेदार मार्को रूबियो ने शुक्रवार को कहा कि जलवायु परिवर्तन से उत्पन्न चुनौतियों से निपटने के लिए अमेरिका की ओर से उठाए गए कदमों का कोई फायदा नहीं होने वाला है क्योंकि भारत और चीन का उत्सर्जन अभी भी बड़े पैमाने पर जारी है। फ्लोरिडा के मियामी में राष्ट्रपति चुनाव के लिए रिपाqब्लकन की अंतिम बहस के दौरान फ्लोरिडा से सिनेटर मार्को रूबियो ने कहा, कि आप जानते हैं कि पारित किए जाने वाले कानूनों का क्या होगा? इसका पर्यावरण पर क्या प्रभाव पड़ेगा? शून्य, क्योंकि चीन में अभी भी प्रदूषकों का उत्सर्जन जारी है और भारत बड़े स्तर पर प्रदूषण उत्सर्जन कर रहा है। जलवायु परिवर्तन पर पूछे गए एक सवाल के जवाब में उन्होंने कहा, मैं स्वच्छ पर्यावरण के पक्ष में हूं। मैं चाहता हूं कि यह सुरक्षित और सही ाqस्थति में हो, लेकिन उन कानूनों से पर्यावरण का कुछ नहीं होगा, जो लोग हमें पारित करने के लिए कह रहे हैं और वे लोग हमारी अर्थव्यवस्था को चोटिल और तहस नहस कर देंगे। उन्होंने कहा कि अमेरिका केवल एक देश है न कि एक ग्रह। उन्होंने कहा, कि हम कितनी भी संभावित कमी कर लें, भारत और चीन जैसे देश बहुत अधिक कार्बन उत्सर्जन कर रहे हैं।