भारत को नाटो सहयोगी जैसा दर्जा देने अमेरिकी सांसद में बिल पेश


वाशिंगटन। भारत की बढ़ती वैश्विक हैसियत को देखते हुए अमेरिका ने ऐतिहासिक पहल की है।पहली बार अमेरिकी संसद में भारत को नाटो जैसा दर्जा देने का प्रस्ताव पेश किया गया है। इस प्रस्ताव के पारित होने से भारत को संवेदनशील रक्षा उपकरणों की आपूर्ती, तकनीकि हस्तांतरण के मार्ग की बाधाएं दूर होगी तथा विकास का मार्ग प्रशस्त होगा।
अमेरिका – भारत रक्षा तकनीकी एवं सहयोग अधिनियम (एचआर४८२५) सांसद जॉर्ज होल्डिंग व भारत समर्थक आन्य सांसदों ने यह बिल पेश किया है। इस प्रस्ताव में कहा गया है कि भारत को अमेरिका के साथ रक्षा मामलों में बराबर की हैसियत दी जानी चाहिए। उसके साथ रक्षा व व्यापार मामलों में वैसा ही व्यवहार होना चाहिए जैसा कि अमेरिका के सबसे नजदीकी सहयोगियों के साथ होता है। सांसद होल्डिंग के अनुसार इस प्रस्ताव के पारित होने से भारत को न केवल नाटो सहयोगी का दर्जा मिल जाएगा। बल्कि परस्पर हितों वाली सांझा सैन्य कार्रवाई को अंजाम दिया जा सकेगा। इससे साफ संकेत है कि दोनो देशों की सरकारे रक्षा सहयोग को सर्वोच्य प्राथमिकता दे रही हैं। होल्डिंग ने पाकिस्तान को एफ -१६ लड़ावूâ विमान देने के पैâसले पर ओबामा सरकार पर कटाक्ष भी किया । अमेरिकी रक्षा मंत्री एश्टन कार्टर न इस विधेयक का स्वागत किया है। उनके अनुसार यह प्रस्ताव भारत के रक्षा प्रतिष्ठान के लिए बड़ा सकारात्मक संकेत है। यह विश्व राजनीतिक स्थिति की बदलते परिदृश्य की ओर संकेत करती है।