ब्रिटेन में होती रहेगी पंजाबी, गुजराती, उर्दू, बांग्ला की पढ़ाई


लंदन। ब्रिटेन के स्वूâलों में पंजाबी, उर्दू, गुजराती और बांग्ला जैसी भारतीय भाषाओं की पढ़ाई होती रहेगी। इनकी पढ़ाई बंद होने का कोई खतरा नहीं है। ब्रिटिश शिक्षा विभाग ने इस बात को स्पष्ट किया है। उसका कहना है कि ये भारतीय भाषा स्वूâली पाठयक्रम का हिस्सा हैं और पूरे देश में इनको पढ़ाया जाना जारी रखा जाएगा। शिक्षा विभाग की ओर से कहा गया है कि उपरोक्त चारों भारतीय भाषाओं को पढ़ने का विकल्प ए लेवल यानी हाईस्वूâल तक के पाठयक्रम में बरकरार रहेगा। भारतीय भाषाओं को स्वूâली पाठयक्रम में बरकरार रखने के अभियान की अगुआई करने वाले सांसद बॉब ब्लैकमैन के अनुसार, ’’मैं देश के सबसे अधिक बहुसांस्कृतिक संसदीय क्षेत्र का प्रतिनिधित्व करता हूं। मैं दावे से यह कह सकता हूं कि पूर्व की भांति हम अभी भी एक वैश्विक गांव के रूप में हैं।’’ उनका कहना था, ’’हमारे युवा लोग अगर बहु भाषी बनना चाहते हैं तो उनके सामने ढेरों विकल्प मौजूद हैं। यही कारण है कि मैंने इन भारतीय भाषाओं को शिक्षा प्रणाली में संरक्षित करने का प्रयास शुरू किया था।’’ बकौल बॉब, ’’मैं उन सभी लोगों को बधाई देना चाहता हूं, जिन लोगों ने भारतीय भाषाओं को स्वूâली पाठयक्रम में बनाए रखने के एजेंडे पर साथ दिया है। मुझे खुशी है कि निकी मॉर्गन के रूप में हमारे पास ऐसी शिक्षा मंत्री हैं, जो लोगों की भावनाओं की कद्र करती हैं।’’