बतूती की कहानी से मिला था ओसामा को हमले का विचार


यरूशलम । अमेरिका में वल्र्ड ट्रेड सेंटर पर विमानों के जरिए हमले करने का विचार ओसामा बिन लादेन को १९९९ में मिस्र में हुए उस विमान हादसे से आया था जिसमें सह पायलट ने जानबूकर अपना विमान अटलांटिक महासागर में गिरा दिया था। अलकायदा के अनुसार अमेरिका पर हमले का विचार मिस्र के सह-पायलट कामिल अल बतूती की कहानी से सूझा था। कामिल ने मिस्र एयरलाइंस के विमान को समुद्र में गिरा दिया था। इस घटना में २१७ लोग मारे गए थे जिनमें १०० अमेरिकी शामिल थे। यह विमान लॉस एंजिलिस से काहिरा जा रहा था। उसने कहा कि जब संगठन के सरगना ओसामा ने मिस्र के इस विमान हादसे के बारे में सुना तो उसने सवाल किया, उसने निकट की किसी इमारत में विमान को क्यों नहीं टकराया? बतूती ने यह हरकत क्यों की थी इसको लेकर उस वक्त बहुत अटकलें लगीं। तब आतंकवाद के पहलू की भी जांच हुई थी। बाद में यह कहा गया था कि कामिल ने अपनी वंâपनी की ओर से अपने खिलाफ की गई अनुशासनात्मक कार्रवाई का बदला लेने के लिए यह आत्मघाती कदम उठाया। वैसे ओसामा को इस घटना के पीछे की वजह से कोई लेनादेना नहीं था। उसका इरादा इसी घटना की तर्ज पर अमेरिका को दहलाने का था।