पनामा पर हमला : मोस्साक फोंसेका


वाशिंगटन। पनामा पेपर लीक मामले में वंâपनी बचाव में उतर आई है। उसका कहना है कि उसके पेपरों को लीक करना जहां अपराध है वहीं यह पनामा पर हमला भी है। यह कृत्य उनके प्रतिद्वंदियों की तरफ से किया गया है। वंâपनी ने कहा है हम फिर भी जांच में सहयोग करेंगे।
जानकारी के अनुसार पनामा पेपर विधि फर्म मोस्साक फोंसेका के पास बेहद सुरक्षित तरीके से रखी जाती है। वंâपनी ने कहा उसके कई धनी ग्राहकों के विदेशों में ाqस्थत कामकाज की जानकारी देते हुए पनामा पेपर्स का खुलासा करना एक अपराध है और पनामा पर एक हमला है। मोस्साक फोंसेका के संस्थापकों में शामिल रैमन फोंसेका ने कहा कुछ देशों को यह बात रास नहीं आती कि हम वंâपनियों को आर्किषत करने में इतना कड़ा मुकाबला पेश कर रहे हैं। बड़े स्तर पर मोसाक फोंसेका के आंकड़े लीक होने की खबर विश्व भर में मीडिया ने छापी है। इन रिपोर्टों में बताया गया है कि किस प्रकार धनी राजनेता, सिलेब्रिटी और अन्य लोग कथित रूप से कर चोरी करके अपनी पूंजी छुपाने और धनशोधन करने के लिए इसका इस्तेमाल करते थे। कार्रवाई में सहयोग करने का संकल्प पनामा सरकार ने पनामा पेपर्स के आंकड़े लीक होने के मददेनजर शुरू की जा सकने वाली हर प्रकार की कानूनी जांच में पूरा सहयोग करने का संकल्प लिया है। पनामा सरकार ने कल एक बयान में कहा, पनामा सरकार कोई कानूनी कदम उठाए जाने की ाqस्थति में हर प्रकार की आवश्यक सहायता या हर प्रकार के अनुरोध में पूरी तरह सहयोग करेगी। पनामा आंकड़े लीक होने के कारण हुए इन खुलासों से जूझ रहा है कि उसकी एक हाई प्रोफाइल लेकिन गोपनीय विधि फर्म मोस्साक फोंसेका ने कर अधिकारियों से पूंजी को छुपाने में विश्व भर के कई बड़े नेताओं और र्चिचत हाqस्तयों की कथित रूप से मदद की। इन लीक आंकड़ों को कई मीडिया संस्थानों ने दर्शाया है।