नेताजी जासूसी मामला, प्रधानमंत्री ने किया सहयोग का वादा


र्बिलन। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने भारत की आजादी की लड़ाई में अग्रणी भूमिका निभानेवाले नेताजी सुभाष चंद्र बोस के पोते सूर्या बोस से कहा है कि वह देश के प्रथम प्रधानमंत्री जवाहरलाल नेहरू के कार्यकाल के दौरान नेताजी पर निगरानी के आरोपों की गंभीरता से जांच करेंगे।
जर्मनी में भारत के राजदूत द्वारा मोदी के सम्मान में आयोजित नागरिक अभिनंदन समारोह में भाग लेने आये बोस ने कहा कि मोदी ने नेहरू जी के कार्यकाल में नेताजी के परिजनों और खुद उनकी जासूसी संबंधी आरोपों पर संज्ञान लेते हुए इसकी जांच करने का आश्वासन दिया है। प्रधानमंत्री ने कहा है कि उन्होंने स्वंय वह फाइल नहीं देखी है इसलिए अभी कुछ नहीं कर सकते लेकिन वह फाइल खुलवाकर जांच करने की पूरी कोशिश करेंगे।
बोस ने बताया कि भारत के लोग नेताजी का सच जानना चाहते हैं और प्रधानमंत्री मोदी द्वारा इस मामले में सकारात्मक रवैये से काफी उम्मीद बंधी है। इसके पहले की मनमोहन िंसह सरकार ने इस मामले में कुछ नहीं किया क्योंकि उन्हें इससे नेहरू परिवार की छवि खराब होने का डर था।
उन्होंनें हाल ही में एक किताब में किये गये खुलासों के बारे में कहा कि यह उनके लिये कोई नई बात नहीं है। वह जब भी यहां सुभाष चंद्र बोस के बारे में कोई लेक्चर देने जाते थे, तो भारतीय दूतावास और रॉ के लोग पहुंच जाते थे। उन्होंने कहा कि मोदी सरकार को सच का पता लगाना चाहिए।