नए शीत युद्ध की चपेट में दुनिया : रूस


म्युनिख। यूव्रेâन मुद्दे पर मतभेद सीरिया समर्थन के चलते उपजे तनाव के मद्देनजर रुस के प्रधानमंत्री दिमित्री मेदवेदेव ने कहा कि रुस और पाqश्चम के बीच मतभेद के चलते दुनिया एक नए शीत युद्ध की तरफ चली गई है। उन्होंने कहा कि ये तनाव यूव्रेâन मुद्दे पर मतभेद व रुस द्वारा सीरिया का समर्थन किए जाने के बाद सामने आया। मेदवेदेव ने कहा कि इन सबके पीछे सबसे बड़ी वजह ‘नाटो’ की रुस के खिलाफ असहयोगात्मक नीति है। म्युनिख सुरक्षा सम्मेलन में बोलते हुए रुसी पीएम ने कहा कि ये पूरी तरह से साफ हो गया कि दुनिया एक शीत युद्ध की चपेट में है। उन्होंने कहा कि तकरीबन हर बार हम पर किसी न किसी रुप में गलत गतिविधियों का आरोप लगाया जाता है, चाहे वो नाटो क खिलाफ हो, यूरोपीय देश हो या फिर अमेरिका हो। मेदवेदेव ने नाटो के विस्तार की जमकर आलोचना की। पीएम ने यूरोपीय राजनेताओं को कटघरे में खड़ा करते हुए कहा कि यूरोपीय संघ (यूरोपियन यूनियन) से बाहर एक तथाकथित यूरोपीय मित्रों का समूह बनाकर सुरक्षा की गारंटी दे रहे थे। मेदवेदेव ने सवाल किया कि इस गारंटी का क्या हुआ, वे अलग-थलग पड़ गए। उन्होंने कहा कि विश्वास पैदा करना बेहद कठिन है लेकिन हमें इसकी शुरुआत करनी है। रुसी पीएम ने कहा कि१९६० के दशक में परमाणु विनाश के करीब थे लेकिन हमने राजनीतिक मतभेदों को दूर करते हुए आम लोगों के जीवन की कीमत को समझा। उन्होंने अपील करते हुए कहा कि सभी लोग रचनात्मक व एक दूसरे से सहयोग करे। साथ ही मेदवेदेव ने कहा की जब मतभेद उभरे संवाद बनाए रखना चाहिए।