दुर्घटनाग्रस्त ताइवानी विमान के 15 यात्रियों की मौत, 30 लापता


ताइपे । राजधानी ताइपे के सोंगशान हवाईअड्डे से उडान भरने के कुछ ही समय बाद ताइवान का एक विमान बुधवार को बीच हवा में पलट गया और फिर सड़क के एक पुल से टकराकर नदी में जा गिरा। सूत्रो के अनुसार, विमान में सवार कुल ५८ लोगों में से कम से कम १५ लोगों की मौत हो चुकी है। ट्रांस एशिया एयरवेज के विमान की इस दुर्घटना में मरने वालों की संख्या में इजापेâ की आशंका है क्योंकि बचाव दल के सदस्यों ने तट से कई मीटर की दूरी पर कीलुंग नदी में अधिकांश डूब चुके विमान के बीच के हिस्से को निकाल लिया है। बचाव दलों के सदस्य मलबे के आसपास रबड़ की नौकाओं में एकत्र होकर बचाव कार्यों में जुटे हैं। स्थानीय टीवी पर प्रसारित तस्वीरों में दर्शाया गया कि एटीआर ७२ प्रोप-जेट विमान एक ओर झुक गया था और उसका एक पंख ताइवान के नेशनल प्रâी वे नंबर १ से रगड़ खाते हुए कुछ ही सेवेंâड बाद नदी में जा गिरा।
पिछले साल भी इस विमान सेवा का विमान दुर्घटनाग्रस्त हो गया था और वह भी प्रâांसिसी-इतालवी र्नििमत एटीआर ७२ ही था। बुधवार को इस विमान ने ताइपे के सोंगशान हवाईअड्डे से उड़ान भरी थी और यह ताइवान के नियंत्रण वाले किनमेन द्वीप पर जा रहा था।नागरिक उड्डयन अधिकारियों ने कहा कि विमान ने सुबह १० बजकर ५३ मिनट पर उडान भरी और दो मिनट बाद यह नियंत्रणकर्ताओं से संपर्वâ खो बैठा। ताइवान के पर्यटन ब्यूरो ने कहा कि विमान में सवार ३१ यात्री चीन से थे। किनमेन का हवाईअड्डा ताइपे और चीन के पुâजियान प्रांत के बीच संपर्वâ का माध्यम है। ताइवान के नागरिक उड्डयन प्राधिकरण ने कहा कि विमान से निकाले गए २८ लोगों में से १५ लोगों की मौत हो चुकी है और ३० लोग अभी भी लापता हैं। ताइपे के दमकल विभाग के अधिकारी वू जुन-होंग ने कहा कि लापता लोग या तो अभी भी विमान के भीतर ही हैं या वे नदी में डूब गए हैं। वू ने बताया कि इस समय चीजें ज्यादा सकारात्मक नहीं दिखाई दे रहीं। विमान के अग्रिम हिस्से में जो लोग मौजूद थे, वे संभवत: जान गंवा चुके हैं। विमान के बीच के हिस्से को साफ करने के लिए बचावकर्मी विमान के खुले हुए द्वार से सामान बाहर खींच रहे थे।उन्होने कहा कि इन प्रयासों को सरल बनाने के लिए एक अस्थायी पुल बनाने पर विचार किया था। सूत्रो के अनुसार, नदी में गिरने से पहले विमान का पंख एक टैक्सी से भी टकराया था और इसके कारण टैक्सी का चालक घायल हो गया था।ताइवान के राष्ट्रीय रक्षा मंत्रालय ने कहा कि उसने दमकल विभाग के बचावर्किमयों के साथ मिलकर राहत कार्यों को अंजाम देने के लिए १६५ लोगों और आठ नौकाओं को मौके पर भेजा था। ट्रांसएशिया के मीडिया कार्यालय ने दुर्घटना के संभावित कारणों पर टिप्पणी से इंकार करते हुए बाद में आयोजित किए जाने वाले संवाददाता सम्मेलन के लिए इसे टाल दिया।ताइवान का सिविल एयरोनॉटिक्स एडमिनिस्ट्रेशन भी दुर्घटना के संभावित कारणों पर चर्चा करने में असमर्थ रहा। ताइपे की इसी विमानसेवा द्वारा संचालित एक अन्य एटीआर ७२ विमान बीती २३ जुलाई को ताइवान के नियंत्रण वाले पेंगु द्वीप में दुर्घटनाग्रस्त हो गया था। तूफान के अंत में हुई इस दुर्घटना के कारणों की जांच जारी है।