जाधव कभी बलूचिस्तान नहीं गए, आईएसआई ने कराया अपहरण


बलूचिस्तान के सामाजिक कार्यकर्ता मामा कादिर बलोच का दावा

नई दिल्ली (ईएमएस)। बलूचिस्तान के सामाजिक कार्यकर्ता मामा कादिर बलोच ने कहा कि पाक खुफिया एजेंसी ने ईरान से जाधव का अपहरण करवाया था, इसके लिए जैश-उल-अदल के आंतकी मुल्ला उमर को करोड़ों रुपए दिए गए थे। बलोच ने कहा कि पाकिस्तान की इस बात में कोई दम नहीं है कि उसने जाधव को बलूचिस्तान से गिरफ्तार किया है। कादिर बलोच ‘वॉइस ऑफ मिसिंग बलोच’ नामक संस्था के वाइस प्रेसिडेंट हैं।
उन्होंने कहा कि पूरे बलूचिस्तान में उनकी संस्था के लोग काम करते हैं, वह जानते हैं कि ईरान के चाबहार से जाधव का अपहरण कराया गया था। उन्होंने बताया कि इसके लिए आईएसआई ने आतंकी मुल्ला उमर को ढेर सारा पैसा भी दिया था। उन्होंने कहा कि जाधव के हाथ-पैर बांधकर ईरान-बलूचिस्तान बॉर्डर पर लाया गया, जहां से आईएसआई ने उन्हें अपने कब्जे में ले लिया। बलोच ने कहा जाधव तो कभी बलूचिस्तान आए ही नहीं थे।
बलोच ने कहा कि आईएसआई का इस तरह लोगों का अपहरण करना पुराना हथकंडा है, उनके बेटों को भी इसी तरह किडनैप किया गया था। उन्होंने कहा हमारे पास ऐसे कई गवाह हैं जो यह साबित कर सकते हैं कि पाकिस्तानी आर्मी और आईएसआई लोगों के अपहरण के लिए आतंकी संगठनों का इस्तेमाल करती हैं। मेरे बेटे को आईएसआई ने 2009 में किडनैप किया था। तीन साल बाद हमें उसकी लाश मिली थी।
उल्लेखनीय है कि 25 दिसंबर को कुलभूषण जाधव की मां और पत्नी ने इस्लामाबाद में मुलाकात की थी। पाकिस्तान विदेश मंत्रालय में हुई इस बातचीत में एक शीशे की दीवार के आर-पार मां-बेटे की मुलाकात हुई थी। इस मुलाकात में पाकिस्तान की ओर से कुलभूषण की मां और पत्नी के साथ बुरा व्यवहार किया गया था। बैठक से पहले उनके कपड़े बदलवाए गए, मंगलसूत्र, चूड़ियां उतरवाई गईं। इसके अलावा उनके जूते भी वहां पर जब्त करवा लिए गए, पाकिस्तान ने आरोप लगाया था कि उनके जूतों में कोई चिप लगी हुई है, जिसकी जांच चल रही है।