चीन ने दक्षिण सागर में फिलीपींस को झंडा फहराने से रोका


बीिंजग। दक्षिण सागर को लेकर एक बार फिर चीन और फिलीपींस आमने-सामने आ गए हैं। दोनों देश दक्षिण सागर को अपनी सीमा बताते है। जिसके क्रम में बीते दिनों फिलीपींस अपना झंडा फहराने जा रहा था। यह पता चलने पर चीन ने उसे रोक दिया और अपनी नाराजगी जताई। जानकारी के अनुसार चीन की समुद्री पुलिस ने फिलीपीन्स के १५ नागरिकों को दक्षिण चीन सागर में एक द्वीप पर फिलीपीन्स का राष्ट्रीय ध्वज फहराने से रोका है। फिलीपीन्स के १५ नागरिकों के साथ एक अमरीकी नागरिक भी था। उधर, चीन के विदेश मंत्रालय के प्रवक्ता लु कांग ने दोहराया है कि हुआंगयान द्वीप चीन का अभिन्न हिस्सा है और वहां चीन द्वारा की जाने वाली कोई भी कार्रवाई देश के संप्रभु अधिकारों के दायरे में आती है। जानकारी के अनुसार चीनी समुद्री पुलिस की दो मोटर चालित नौकाओं ने इन नागरिकों को रोका। ये नागरिक समूह अपना ११८वां स्वतंत्रता दिवस मनाने के लिए हुआंगयान द्वीप पर उतरना चाहते थे जिस पर चीन और फिलीपीन्स दोनों अपना-अपना दावा करते आ रहे हैं। फिलीपीन्स के नागरिक और पुलिस के बीच लगभग चार घंटे तक बहस हुई। फिलीपीन्स के पांच नागरिक अपना राष्ट्रीय ध्वज तथा संयुक्त राष्ट्र का झंडा फहराने के लिए हुआंगयान द्वीप पर पहुंचने की कोशिश कर रहे थे। उनमें से दो नागरिक द्वीप के आसपास के क्षेत्र में पहुंच गए और अपने देश का झंडा लगाकर लौट गए। उल्लेखनीय है कि फिलीपीन्स दक्षिण चीन सागर में चीन के साथ विवाद को अंतरराष्ट्रीय मध्यस्थता न्यायालय में सुलझाना चाहता है। लेकिन चीन इस मामले में अदालत के अधिकार को खारिज करता है। चीन लगभग समूचे दक्षिण चीन सागर पर अपना दावा ठोकता है। चीन के अलावा वियतनाम, फिलीपीन्स, मलेशिया, ब्रुनेई और ताइवान भी इस पर अपना दावा करते हैं।